सोने की वायदा दाम में मामूली तेज़ी, जानिए चांदी के क्या है रेट

184

पिछले सत्र में तेज गिरावट के बाद आज बुधवार को घरेलू बाजार में सोने और चांदी की वायदा कीमत सपाट रही। एमसीएक्स पर सोना वायदा मामूली बढ़कर 46980 रुपये प्रति 10 ग्राम पर पहुंच गया। चांदी में भी मामूली गिरावट आई और यह 64580 रुपये प्रति किलोग्राम पर रही। पिछले सत्र में सोना और चांदी वैश्विक बाजारों से प्रभावित होकर लगभग एक फीसदी लुढ़के थे। पीली धातु पिछले साल के उच्चतम स्तर (56200 रुपये प्रति 10 ग्राम) से अब भी 9220 रुपये नीचे है। 

वैश्विक बाजारों में, सोना 1,800 डॉलर प्रति औंस के महत्वपूर्ण स्तर से नीचे था, क्योंकि मजबूत अमेरिकी डॉलर और उच्च बॉन्ड प्रतिफल से कीमती धातु की सेफ-हेवन अपील प्रभावित हुई। अमेरिकी डॉलर सूचकांक एक सप्ताह के उच्च स्तर 92.543 पर पहुंच गया। पिछले सत्र में 1,791.90 तक गिरने के बाद आज हाजिर सोना 1,796.03 डॉलर प्रति औंस पर सपाट रहा। अन्य कीमती धातुओं में चांदी 0.1 फीसदी बढ़कर 24.32 डॉलर प्रति औंस पर रही और प्लैटिनम 0.3 फीसदी बढ़कर 1,001.36 डॉलर पर था। असमान वैश्विक आर्थिक सुधार और डॉलर के मुकाबले रुपये में उतार-चढ़ाव से कीमती धातुओं की कीमत प्रभावित होती है। 

व्यापारी इस सप्ताह होने वाली ईसीबी की बैठक के नतीजे पर नजर रखेंगे। यूरोपीय सेंट्रल बैंक इस सप्ताह अपनी मौद्रिक नीति बैठक आयोजित करने वाला है और इस बात की चर्चा बढ़ रही है कि मुद्रास्फीति के दबाव में वृद्धि को देखते हुए केंद्रीय बैंक जल्द ही बॉन्ड टेपरिंग शुरू कर सकता है। सोने को मुद्रास्फीति और मुद्रा की गिरावट के खिलाफ बचाव के रूप में देखा जाता है। डेल्टा वैरिएंट के मामले फैलने से बढ़ती चिंताओं के बीच व्यापारी और निवेशक सतर्क हैं। 

दुनिया की सबसे बड़ी गोल्ड समर्थित एक्सचेंज ट्रेडेड फंड या गोल्ड ईटीएफ, एसपीडीआर गोल्ड ट्रस्ट की होल्डिंग्स पिछले हफ्ते 998.52 टन हो गई। स्वर्ण ईटीएफ सोने की कीमत पर आधारित होते हैं। पीली धातु के दाम में आए उतार-चढ़ाव पर ही इसका दाम भी घटता-बढ़ता है। मालूम हो कि ईटीएफ का प्रवाह सोने में कमजोर निवेशक रुचि को दर्शाता है। एक मजबूत डॉलर अन्य मुद्राओं के धारकों के लिए सोने को अधिक महंगा बनाता है।