गौतम अडानी की बढ़ी मुसीबत, सीमेंट फैक्ट्रियों, कंपनियों पर छापे..

169
bhn
bhn

हिंडनबर्ग रिपोर्ट से संकट में फंसे उद्योगपति गौतम अडानी की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं. इस बीच हिमाचल प्रदेश में चल रहे सीमेंट विवाद में अडानी की कुछ फैक्ट्रियों और कंपनियों पर छापेमारी शुरू हो गई है. हिमाचल में अडानी विल्मर ग्रुप पर राज्य के आबकारी एवं कराधान विभाग ने बुधवार को ही छापा मारा था। इस बीच बुधवार को अडानी के शेयरों में जहां गिरावट दर्ज हुई, वहीं उनमें कुछ उछाल देखने को मिला। लेकिन फिर से नुकसान की वही तस्वीर देखने को मिली.

गौतम अडानी को चंद दिनों में ही तगड़ा झटका लगा

दरअसल दुनिया के सबसे अमीर लोगों की लिस्ट में अंबानी को पछाड़ गौतम अडानी को चंद दिनों में ही तगड़ा झटका लगा। इससे उबरते हुए अब हिमाचल में प्लांट पर छापेमारी उनकी मुश्किलें बढ़ा रही है. कुछ दिन पहले जारी हुई हिंडनबर्ग की रिपोर्ट से गौतम अडानी की आर्थिक दौलत चरमराने लगी। इस रिपोर्ट से उन पर वित्तीय अराजकता का आरोप लगाया गया था। जिसके बाद इनके शेयरों में लगातार गिरावट आ रही थी। इतना ही नहीं, अडानी के 20 हजार एफपीओ को आनन-फानन में रद्द करने का भी फैसला किया गया।

बुधवार को उनकी हालत में मामूली सुधार हुआ था। जहां अडानी एंटरप्राइजेज का शेयर 2,158.65 रुपये पर बंद हुआ। यह लगभग 19.76 प्रतिशत की वृद्धि थी। नतीजतन, अडानी का बाजार पूंजीकरण 40,601.14 रुपये बढ़कर 2.46 लाख करोड़ रुपये हो गया। अडानी विवाद जहां जोर पकड़ रहा है, वहीं अब इसकी लपटें संसद तक पहुंच गई हैं। जहां विपक्ष ने केंद्र की सत्ता पर निशाना साधा। जहां कांग्रेस के राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री मोदी पर अडानी को संकट से बचाने का गंभीर आरोप लगाया. इसलिए तय है कि आने वाले दिनों में संसद के बजट सत्र में अडानी के मुद्दे पर और चर्चा होगी.