फ्रेंच मैगज़ीन चार्ली हेब्दो ने लेखक सलमान रूश्दी पर हमला की कड़ी निंदा, कहा ‘फतवा को कभी सही नहीं ठहराया जा सकता’

192
charlie hebdo condems attack
charlie hebdo condems attack

फ्रांसीसी व्यंग्य मैगज़ीन चार्ली हेब्दो, जिनके 12 कर्मचारियों के सदस्यों को 2015 में पैगंबर मोहम्मद के बारे में कार्टून बनाने पर उन्हें मार दिया गया था जिसके बाद कई मुसलमानों द्वारा इस पत्रिका को इस्मालाम विरोधी माना जाने लगा, उन्होंने शनिवार को कहा कि सलमान रुश्दी पर हुए हमले की निंदा की हम निंदा करते है। लेखक जिन्हें गलत पर और पेट पर चाक़ू से हमला किया गया फिलहाल वेंटीलेटर पर हैं. चार्ली हेब्दो ने कहा, “कुछ भी फतवा, मौत की सजा को सही नहीं ठहराया जा सकता है.”.

रुश्दी की 1988 में प्रकाशित पुस्तक “द सैटेनिक वर्सेज” ने उनके जीवन में उस समय बदलाव ला दिया जब ईरान के पहले सुप्रीम लीडर आयतुल्लाह रुहोल्लाह खोमेनी ने उनकी हत्या का आदेश देते हुए एक फतवा या धार्मिक फरमान जारी किया। इस उपन्यास को कुछ मुसलमानों ने इस्लाम और पैगम्बर मोहम्मद का अनादर माना था।