योगी सरकार की पहली कैबिनेट का पहला बड़ा फैसला, मुफ्त राशन योजना को 3 महीने बढ़ाया

563
Cm Yogi Adityanath

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री पद की शपथ दूसरी बार लेने के बाद योगी आदित्यनाथ ने 24 घंटे के भीतर ही कैबिनेट की बैठक बुला ली है. कैबिनेट की बैठक लोक भवन में शुरु हो गई है. पहली कैबिनेट बैठक में शामिल होने के लिए स्वतंत्र देव सिंह और संजय निषाद सहित सभी नवनियुक्त मंत्री लखनऊ के लोक भवन सुबह ही पहुंच गए थे. वहीं आज कैबिनेट की पहली ही बैठक में योगी सरकार ने बड़ा ऐलान करते हुए मुफ्त राशन योजना को अगले 3 महीने तक बढ़ाने का फैसला किया है. इससे राज्य के 15 करोड़ लोगों को लाभ होगा. ऐसा माना जा रहा है कि योगी सरकार 2.0 की पहली कैबिनेट बैठक में और भी कई बड़े ऐलान किए जा सकते हैं. साथ ही चुनाव के दौरान दिए गए अपने संकल्प पत्र में किए वादों को पूरा करने की दिशा में भी पहल की जा सकती है.

शपथ के बाद सीएम योगी ने की थी बैठक
दरअसल शुक्रवार को शपथ लेने के बाद योगी आदित्यनाथ ने अपने कैबिनेट के सहयोगियों के साथ बैठक कर उन्हें दिशा निर्देश दिए थे. लेकिन आज की कैबिनेट की बैठक अहम मानी जा रही है. क्योंकि आज की कैबिनेट की बैठक में पार्टी के संकल्प पत्र में किए गए वादों को लेकर फैसला किया जा सकता है. असल में राज्य में बीजेपी की सरकार बन गई है और पार्टी ने चुनाव के दौरान जनता से कई तरह के वादे किए थे. जिसे राज्य में लागू करना राज्य सरकार के लिए जरूरी है. लिहाजा आज माना जा रहा है कि कैबिनेट की बैठक में योगी आदित्यनाथ सरकार बड़े फैसले ले सकती है. इसमें खासतौर से बेसहारा पशुओं के लिए आश्रय और किसानों को मुफ्त बिजली देने के साथ ही 60 साल से अधिक महिलाओं सरकारी बसों में मुफ्त सुविधा देने समेत कई प्रस्तावों को कैबिनेट द्वारा पारित किया जा सकता है.

गेहूं खरीद नीति को मिल सकती है मंजूरी
जानकारी के मुताबिक राज्य में आज कैबिनेट की बैठक में गेंहू खरीद नीति को मंजूरी मिल सकती है. असल में सरकार एक अप्रैल से न्यूनतम समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीद शुरू होने जा रही है और आज की कैबिनेट की बैठक में गेहूं खरीद नीति को मंजूरी मिल सकती है. क्योंकि गेहूं खरीद को लेकर आमतौर पर कई तरह की शिकायतें मिलती हैं, जिसको लेकर सरकार काफी सख्त है. वहीं राज्य में दोबारा सत्ता में आई योगी सरकार से लोगों की उम्मीदें काफी बढ़ गई हैं.

लोकभवन में नए मंत्रियों से मिले थे योगी आदित्यनाथ
असल में योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में फिर से शपथ लेने के बाद शुक्रवार को लखनऊ में कैबिनेट के सदस्यों की पहली बैठक बुलाई थी. इस बैठक में योगी आदित्यनाथ ने अपने मंत्रियों के दिशा निर्देश दिए और कहा कि उन्हें जनता के लिए कार्य करना है. सरकारी कार्यों में परिवार के लोगों का दखल नहीं होना चाहिए. योगी आदित्यनाथ ने दूसरी बार यूपी के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली है. शुक्रवार की बैठक में डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य, ब्रजेश पाठक, स्वतंत्र देव सिंह, जितिन प्रसाद समेत सभी नए मंत्री शामिल हुए थे.