दिलीप घोष: विक्टिम कार्ड के लिए ममता खुद चाहती हैं बंगाल में राष्ट्रपति शासन लगे

294

पश्चिम बंगाल भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने अपने ऊपर हुए हमले के लिए सीधे तौर पर सत्तारूढ़ टीएमसी और गोरखा जनमुक्ति मोर्चा (जीजेएम) में बिमल गुरंग के धड़े को जिम्मेदार ठहराया है। घोष ने कहा, मुख्यमंत्री ममता बनर्जी खुद चाहती हैं कि बंगाल में राष्ट्रपति शासन लगा दिया जाए ताकि वह अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव में विक्टिम कार्ड खेल सकें। 

घोष ने कहा, ममता राज्य में 356 लागू करने के लिए केंद्र सरकार को मजबूर कर रही हैं। टीएमसी में माफिया और गुंडे हैं, जो लोगों को डराने के लिए हिंसा करते हैं। बंगाल के लोग भी कह रहे हैं कि जब तक यह सरकार रहेगी तब तक निष्पक्ष चुनाव नहीं हो पाएंगे। इसलिए राष्ट्रपति शासन जरूरी है। बृहस्पतिवार को अलीपुरद्वार जिले में मेरे काफिले पर हुआ हमला सुनियोजित था। टीएमसी नेताओं को इसकी जानकारी थी और पुलिस ने इसे रोकने के लिए कोई प्रयास नहीं किया। 

घोष ने कहा, ममता की पार्टी ने उन ताकतों से हाथ मिलाया है, जिन्हें पहले वह ‘राष्ट्रविरोधी’ कहा करती थीं। ऐसा इसलिए कि टीएमसी की नजर पहाड़ी क्षेत्र की तीन विधानसभा सीटों पर है। सिलीगुड़ी और जलपाईगुड़ी जैसे पहाड़ी इलाकों में प्रभाव और समर्थन बढ़ाने के लिए टीएमसी पैसे बांट रही है।  

भाजपा अध्यक्ष के काफिले पर हुए हमले पर बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। राज्यपाल धनखड़ ने राज्य की कानून-व्यवस्था पर जताई चिंता जताते हुए कहा कि वह मूकदर्शक बनकर नहीं रह सकते। बंगाल में राजनीतिक हिंसा और प्रतिशोध का माहौल है। वह पहले भी राज्य में खराब कानून-व्यवस्था को लेकर सरकार पर हमला बोलते रहे हैं।