दिल्ली में अगले 24 घंटे अलर्ट, खतरे के निशान तक पहुंचा यमुना नदी का जलस्तर

451

दिल्ली में हथिनी कुंड से लगातार पानी छोड़ा जा रहा है अभी यमुना नदी खतरे के निशान से नीचे है, लेकिन अगले 24 घंटे में खतरे के निशान तक पहुंचने के आसार हैं. बारिश 24 घंटे हो रही है जिससे भी पानी बढ़ने के आसार हैं. दिल्ली में यमुना 24 घंटे में खतरे के निशान तक पहुंच सकती है. दिल्ली सरकार में जलमंत्री और फ्लड एंड इरिगेशन मिनिस्टर सत्येन्द्र जैन ने कहा कि संभावना है कि अगले 24 से 48 घंटे तक जलस्तर खतरे के निशान तक पहुंच जाएगा. यह निर्भर करता है कि हथिनी कुंड से और कितना पानी छोड़ा जाएगा.

मंत्री ने कहा कि दिल्ली सरकार ने पूरी तैयारियां की हुई है, अगर फ्लड की स्थिति पैदा होती है तो हम तैयार हैं. जैसे ही यमुना का स्तर खतरे के निशान के पास पहुंचेगा अलर्ट जारी कर दिया जाएगा. लो-लाइन के पास यमुना के किनारे जितने भी इलाके हैं, वह प्रभावित होते हैं. उन इलाकों चिह्नित किया हुआ है, जिसकी लिस्ट भी जारी की जाएगी. सारे डीएम की ड्यूटी लगाई गई है. अभी ऐसी स्थिति नहीं आई है कि फ्लडलाइन के इलाकों को खाली कराया जाए.

दिल्ली के वजीराबाद क्षेत्र में बीते गुरुवार की दोपहर बाद आई बारिश के बाद गलियों में लबालब पानी भर गया. वजीराबाद क्षेत्र में पानी की निकासी की व्यवस्था न होने के कारण लोगों के घरों में भी पानी भर गया. गलियों में गाड़ियों के आधे टायर डूबे हुए नजर आए. यमुना नदी में हथिनीकुंड बैराज से छोड़ा गया पानी करनाल पहुंच गया है. यमुना नदी से जुड़े हुए खेतों में पानी पहुंचने से सब्जियों और फसलों को नुकसान हुआ है. किसानों को अपने खेत में फसलों के पास जाने के लिए टयूब का सहारा लेना पड़ रहा है. वहीं किसानों का कहना है फसलें, सब्जियां खराब हो जाती हैं, पर प्रशासन की कोई मदद नहीं मिलती.