लम्बे इंतज़ार के बाद दिल्ली में मानसून ने दी दस्तक, राजधानी समेत एनसीआर के इलाकों में झमाझम बारिश

224
Weather update today

राजधानी दिल्ली में लंबे समय से मानसून का इंतजार कर रहे लोगों की प्रतीक्षा खत्म हो गई है। मंगलवार सुबह से ही दिल्ली और गुरुग्राम समेत एनसीआर के कई इलाकों में झमाझम बारिश हो रही है। माना जा रहा है कि 11 जुलाई को दिल्ली पहुंचने वाला मानसून देरी से पहुंचा है और दिल्ली में हो रही बारिश राजधानी में इस साल के मानसून की पहली फुहार है।

पूर्वानुमान के अनुसार अगले दो घंटों में दिल्ली व आसपास के इलाकों जैसे, बहादुरगढ़, गुरुग्राम, फरीदाबाद, लोनी, नोएडा, गोहाना, सोनीपत, रोहतक और खेकरा में गरज के साथ हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है। इसी के साथ 20-40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं भी चल सकती हैं।

दिल्ली में मानसून अपने साथ केवल बारिश ही नहीं, बल्कि मुसीबतें भी लेकर आता है। इस बार भी कुछ ऐसा ही है। महज दो घंटे की बारिश में ही कई सड़कों पर जलजमाव की समस्या सामने आने लगी है। एम्स फ्लाईओवर के पास भी हालात कुछ ऐसे ही हैं। यहां सड़कों पर इतना पानी भर गया है कि वाहनों का चलना तक मुश्किल हो गया है।

बता दें कि इस बार मौसम विभाग कई बार मानसून का मिजाज समझने में नाकाम रहा है। कई बार मानसून की घोषणा करने में नाकाम रहने के बाद विभाग ने घोषणा की थी कि 11 जुलाई तक दिल्ली-एनसीआर में मानसून का इंतजार खत्म हो जाएगा। इसे लेकर यलो अलर्ट जारी करते हुए विभिन्न इलाकों में हल्की बारिश की संभावना जताई गई थी। 

लेकिन 11 जुलाई यानी रविवार को ठीक इसका उलटा असर दिखा। सुबह से ही सूर्यदेव ने कोप दिखाया। तीखी धूप के कारण दिनभर उमस भरी गर्मी से लोगों का बुरा हाल रहा। सुबह कुछ देर के लिए लुकाछिपी का खेला चला, लेकिन बादल बिन बरसे ही चले गए। पूर्वी दिल्ली के इलाके में कुछ मिनटों के लिए बूंदाबांदी दर्ज हुई। इस कारण उमस बढ़ने से लोगों की परेशानी और बढ़ गई।

मौसम विभाग ने पिछले माह संभावना जताई थी कि मानसून तय समय 27 जून से पहले ही 15 जून तक दस्तक दे देगा। 15 जून तक आते-आते मौसम विभाग ने तारीख बदलते हुए 22 जून तक पहुंचने की संभावना जताई। इस तारीख तक भी मानसून नहीं पहुंचने पर 27 जून से लेकर माह के अंत तक आने की संभावना बताई गई। 

इसके बाद एक बार फिर दो जुलाई तक लोगों की आस बढ़ा दी गई। मौसमी परिस्थितियों का हवाला देते हुए विभाग ने 7 जुलाई तक आने की संभावना जताई। लगातार रूठे मानसून को देखते हुए फिर से नई तारीख 10 जुलाई बताई गई। इसके बाद 24 घंटे देरी का हवाला देते हुए 11 जुलाई की घोषणा हुई थी।