ओलंपिक पदक विजेता पहलवान सुशील कुमार भगोड़ा घोषित, सागर हत्याकांड में बनया गया आरोपी

325

भारतीय कुश्ती को विश्व स्तर पर नई पहचान दिलाने वाले सुशील कुमार मुश्किलों में घिरे हैं। भारत को ओलंपिक में पहले कांस्य और फिर रजत पदक दिलाकर गौरव बढ़ाने वाले पहलवान को भगोड़ा घोषित किया गया है। सागर हत्याकांड में सुशील को आरोपी बनाया गया है और उनको पकड़ने के लिए पुलिस लगातार कोशिश कर रही है। अब इस ओलंपिक पदक विजेता पहलवान को पकड़ने के लिए 1 लाख का इनाम रखा गया है।

दिल्ली पुलिस ने माडल टाउन स्थित छत्रसाल स्टेडियम में पहलवान सागर धनखड़ की हत्या के मामले में आरोपित ओलंपियन सुशील कुमार की गिरफ्तारी पर सोमवार को एक लाख का इनाम घोषित किया है। उसके सहयोगी अजय की गिरफ्तारी पर 50 हजार का इनाम घोषित हुआ है।

मालूम हो कि हत्या के इस मामले में सुशील समेत नौ लोग फरार चल रहे हैं। पुलिस के एक अधिकारी के अनुसार सुशील व अन्य आरोपितों को कोर्ट से भगोड़ा घोषित कराने और कुर्की वारंट जारी कराने की प्रक्रिया भी शुरू की जाएगी। इससे पूर्व शनिवार को रोहिणी कोर्ट आरोपितों के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी कर चुका है।

गौरतलब है कि चार मई को सुशील कुमार कुछ गैंगस्टरों के साथ छत्रसाल स्टेडियम पहुंचा था। आरोप है कि आरोपितों ने सागर धनखड़ के साथ मारपीट की थी, जिससे उसकी मौत हो गई थी।

सुशील की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सफलता ने खेल को नई बुलंदियों तक पहुंचाया और प्रेरणादायी विरासत तैयार की। बापरोला गांव का यह पहलवान इस खेल में अब तक भारत का एकमात्र विश्व चैंपियन (2010) है। वह एकमात्र भारतीय खिलाड़ी हैं जिनके नाम पर दो व्यक्तिगत ओलंपिक पदक दर्ज हैं। सुशील ने साल 2008 के बीजिंग ओलंपिक में कांस्य पदक जीता था। इसके बाद बाद लंदन में 2012 में हुए ओलंपिक गेम्स में उन्होंने सिल्वर मेडल जीता था।