दिल्ली में फिर बढ़ने लगा कोरोना का खौफ, पिछले 24 घंटे में सामने आए 536 मामले, अरविंद केजरीवाल ने बुलाई आपात बैठक

407
CM Kejriwal Meeting on Omicron

दिल्ली में बुधवार को 500 से अधिक कोरोना के मामले सामने आने के बाद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज कोरोना पर आपात बैठक बुलाई है। इस बैठक में मुख्यमंत्री हेल्थ इंफॉर्मेशन मैनेजमेंट सिस्टम की समीक्षा करेंगे। इस बैठक में स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन और संबंधित अधिकारी मौजूद रहेंगे।

बता दें कि बुधवार को 536 नए कोरोना के मामले सामने आए जो 6 जनवरी के बाद आने वाले सबसे ज्यादा केस हैं। ऐसे में सरकार कोरोना को लेकर कोई लापरवाही नहीं बरतना चाहती। सरकार का मानना है कि कोरोना के बढ़ते मामलों को लेकर जरा भी लापरवाही की गई तो मामला हाथ से निकल सकता है।

6 जनवरी के बाद दिल्ली में बुधवार को फिर सबसे ज्यादा मिले कोरोना मरीज
कोरोना वायरस को लेकर इस साल दिल्ली में तीसरी बार सबसे ज्यादा मामले एक दिन में सामने आए हैं। छह जनवरी के बाद पहली बार राजधानी में एक दिन में 536 कोरोना मरीज मिले हैं। 1 जनवरी से लेकर अब तक चार बार 500-500 से अधिक मामले मिल चुके हैं। एक जनवरी को 585, छह जनवरी को 654 और नौ जनवरी को 519 कोरोना संक्रमित मरीज मिले हैं। वहीं 534 मरीज पिछले एक दिन में सामने आए हैं।

बुधवार को दिल्ली स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि कोरोना संक्रमित मरीज भले ही अधिक मिले हों, लेकिन संक्रमण दर में अधिक बढ़ोत्तरी नहीं मिली है। पिछले एक दिन में 80856 सैंपल की जांच हुई है जिनमें से 0.66 फीसदी संक्रमित मिले हैं। इस दौरान तीन मरीजों ने उपचार के दौरान दम तोड़ दिया। जबकि 319 मरीजों को डिस्चॉर्ज किया गया।

हर दिन संक्रमित मरीजों की संख्या अधिक मिलने की वजह से सक्रिय मामले भी बढ़कर 2702 हो चुके हैं। इनमें से 1438 सक्रिय मरीज अपने घरों में उपचाराधीन हैं। जबकि 725 मरीज अस्पताल में भर्ती हैं। इनके अलावा तीन मरीजों को कोविड निगरानी केंद्र पर रखा गया है।

दिल्ली में कुल संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 645,025 हो चुकी है जिनमें से 613,375 मरीज अब तक ठीक हुए हैं। साथ ही 10,948 लोगों की मौत हो चुकी है। अभी कोरोना वायरस से 1.72 फीसदी मरीजों की मौत हुई है। इसके अलावा राजधानी में कोरोना की संक्रमण दर 4.77 फीसदी है जोकि राष्ट्रीय औसत पांच फीसदी से भी कम है।

विभाग ने जानकारी दी है कि संक्रमित मरीजों के बढ़ने से कंटेनमेंट जोन की संख्या भी बढ़ रही है। दिल्ली में अभी 608 इलाके ऐसे हैं जिन्हें कंटेनमेंट जोन में तब्दील किया है। कोरोना की जांच को लेकर विभाग ने बताया कि राजधानी में 50 फीसदी से भी ज्यादा सैंपल की जांच आरटी पीसीआर तकनीक के जरिए हो रही है। पिछले एक दिन में 50,216 सैंपल की जांच आरटी पीसीआर के जरिए हुई है। जबकि 30640 सैंपल की जांच एंटीजन किट्स के जरिए हुई है।