रिलीज से पहले ही विवादों में घिरी फिल्म ‘कागज’, डेडमैन संतोष ने की फिल्म पर रोक लगाने की मांग

200

बॉलीवुड फिल्मों का विवादों से पुराना नाता रहा है। फिर चाहे बात सेंसर बोर्ड की हो, धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने की या फिर बिना इजाजत किसी की जिंदगी को पर्दे पर उतारने की। अब सलमान खान के प्रोडक्शन में बनने जा रही फिल्म ‘कागज’ पर बवाल हो गया है।

हाल ही में फिल्म कागज का ट्रेलर रिलीज हुआ था। इस फिल्म में पंकज त्रिपाठी एक मृत शख्स का किरदार निभा रहे हैं, लेकिन फिल्म की रिलीज से पहले ही इसपर विवाद छिड़ गया है। दरअसल, वापराणसी में डेडमैन के नाम से पहचाने जाने वाले संतोष मूरत सिंह इसके विरोध में खड़े हो गए हैं।

उनका कहना है कि यह पूरी कहानी उनकी है और सलमान की टीम ने उनसे ही सारी जानकारी ली और किसी दूसरे के नाम से फिल्म बना डाली। अब संतोष का दावा है कि इसके गवाह मुरादाबाद के एसएसपी प्रभाकर चौधरी होंगे क्योंकि उन्होंने ही संतोष को ‘कागज’ नाम दिया था।

संतोष के मुताबिक, जब वह 18 साल के थे तब साल 1995 में उनके गांव में फिल्म ‘आंच’ की शूटिंग के लिए एक्टर नाना पाटेकर आए थे। वह उन्हें अपने साथ मुंबई ले गए और अपना कुक बना लिया। लगभग तीन साल बाद जब संतोष गांव वापस आए तो वहां के रेवेन्यू रिकॉर्ड्स में उन्हें मृतक दिखाकर उनकी 12 एकड़ से ज्यादा जमीन गांव के लोगों ने अपने नाम करा ली।

मां बाप के गुजर जाने के बाद से ‘मैं जिंदा हूं’ बताकर वह संघर्ष कर रहे हैं। लोग उन्हें डेडमैन के नाम से जानते हैं। यहीं नहीं, संतोष का कहना है कि फिल्म की टीम ने उनकी पूरी कहानी सुनने के बाद कहा था कि इस पर फिल्म बन सकती है, लेकिन उनसे सहमती नहीं ली गई। अब जब सलमान खान ने फिल्म बनाई है वह संतोष की ही कहानी है, जिसे किसी दूसरे के नाम से रिलीज किया जा रहा है।

इस बात के लिए संतोष ने देश के राष्ट्रपति को पत्र लिखा है, साथ ही थाना चौबेपुर में शिकायत लिखवाई है। उन्होंने अपील करते हुए फिल्म पर रोक लगाने और सलमान खान, पंकज त्रिपाठी समेत बाकी की टीम पर कानूनी कार्रवाई की मांग की है।

फिल्म ‘कागज’ के बारे में बात करें तो यह 7 जनवरी को वीडियो स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म पर रिलीज होगी। फिल्म को जहां सलमान खान ने प्रोड्यूस किया है तो वहीं सतीश कौशिक इस फिल्म के निर्देशक हैं।