यूरोप के 16 देशों ने कोविशील्ड वैक्सीन को दी मान्यता, अदार पूनावाल ने दी जानकारी

406

सीरम इंस्टीट्यूट आफ इंडिया के सीईओ अदार पूनावाल ने शनिवार को कहा कि यूरोपीय संघ के 16 देशों ने कोविशील्ड को मान्यता दे दी है, जिससे यह वैक्सीन लगवाने वाले लोग इन देशों की यात्रा कर सकेंगे। आक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी-एस्ट्राजेनेका द्वारा विकसित कोरोना रोधी वैक्सीन का भारत में सीरम कोविशील्ड के नाम से उत्पादन और वितरण कर रही है। सीरम ने इसे कई देशों को निर्यात भी किया है।

पूनावाला ने ट्वीट किया, ‘यात्रियों के लिए वास्तव में यह अच्छी खबर है, क्योंकि 16 यूरोपीय देशों ने प्रवेश के लिए स्वीकार्य टीके के रूप में कोविशील्ड को मान्यता दे दी है। परंतु यात्रा करने वालों को सतर्क रहना चाहिए क्योंकि टीकाकरण के बावजूद हर देश में प्रवेश के लिए अलग-अलग दिशानिर्देश हो सकते हैं।

कोविशील्ड को मान्यता देने वाले यूरोपीय संघ के देशों में आस्टि्रया, बेल्जियम, बुल्गारिया, फिनलैंड, जर्मनी, ग्रीस, हंगरी, आइसलैंड, आयरलैंड, लातविया, नीदरलैंड, स्लोवानिया, स्पेन, स्वीडन और स्विटजरलैंड शामिल हैं। फ्रांस ने भी शनिवार को दोनों डोज लगवाने वालों के प्रवेश से पाबंदी हटा ली है।

बता दें कि इससे पहले यूरोपियन मेडिसिन एजेंसी (ईएमए) ने कहा था कि उसे कोरोना वैक्सीन कोविशील्ड की निर्माता कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) से प्राधिकरण के लिए कोई आवेदन नहीं मिला है। यूरोपियन मेडिसिन एजेंसी (ईएमए) ने एक प्रेस ब्रीफिंग में कहा था कि यूरोपीय संघ में इस्तेमाल के लिए कोरोना वैक्सीन कोविशील्ड का मूल्यांकन करने के लिए इस वैक्सीन की निर्माता कंपनी को ईएमए को एक औपचारिक विपणन प्राधिकरण आवेदन जमा करना होगा जो अब तक प्राप्त नहीं हुआ है।

गौरतलब है कि यूरोपियन मेडिसिन एजेंसी (ईएमए) ने COVID-19 वैक्सीन के रूप में फाइजर-बायोएनटेक की कॉमिरनेटी(Comirnaty), मॉडर्न की स्पाइकवैक्स(Spikevax), एस्ट्राजेनेका की वैक्सजेवरिया(Vaxzevria) और जॉनसन एंड जॉनसन की जेनसेन(Janssen) को मंजूरी दे दी है।