कोविड टीकाकरण: स्वास्थ्य मंत्री बोले- देश में सात और वैक्सीन का क्लीनिकल ट्रायल जारी, कुछ अंतिम चरण में पहुंची

    340

    देश में दो स्वदेशी कोविड वैक्सीन कोविशील्ड और कोवैक्सीन के इमरजेंसी इस्तेमाल को मंजूरी मिलने के बाद टीकाकरण अभियान शुरू किया गया था , जिसका दूसरा चरण जारी है। इस बीच, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने मंगलवार को कहा कि देश में कोरोना वायरस के खिलाफ सात और वैक्सीन का क्लीनिकल ट्रायल चल रहा है।

    हर्षवर्धन ने कहा कि इन सात में से कुछ का ट्रायल एडवांस अवस्था में पहुंच गया है। इनके अलावा दो दर्जन से अधिक वैक्सीन अभी प्री-क्लीनिकल ट्रायल की चरण में हैं। उन्होंने बताया कि देश के 430 जिलों में पिछले 28 दिनों से कोई संक्रमित नहीं पाया गया है। दिल्ली हर्ट एवं लंग इंस्टीट्यूट में कोरोना रोधी वैक्सीन की दूसरी खुराक लेने के बाद उन्होंने यह बात कही। पहली खुराक उन्होंने दो मार्च को ली थी।

    महामारी से निपटने के तौर तरीकों पर जारी किया दस्तावेज
    केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने मंगलवार को एक दस्तावेज जारी किया, जो पिछले साल जनवरी से नवंबर तक कोविड-19 से निपटने के भारत के तौर-तरीकों की कहानी बयां करता है। मंत्री कहा कि दस्तावेज ‘चेजिंग द वायरस: ए पब्लिक हेल्थ रिस्पांस टू द कोविड-19 पैंडेमिक’ इस अभूतपूर्व स्वास्थ्य आपात स्थिति से निपटने की देश की स्वास्थ्य प्रणाली का एक तथ्यात्मक दस्तावेज है।

    स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि हर्षवर्धन ने उम्मीद जताई कि स्वास्थ्य प्रणाली को मजबूत करने में इस दस्तावेज की महत्वपूर्ण भूमिका होगी। बयान में कहा गया कि यह हम सबके लिए एक ऐतिहासिक क्षण है। 30 जनवरी को हमारे यहां पहला मामला सामने आया और आज एक साल दो महीने बाद हमारे यहां कोविड-19 के 1.2 करोड़ से अधिक मामले हैं। लेकिन ये वे मामले हैं जिनका हमने पीछा किया। ऐसे और अनेक मामले हो सकते हैं जो हमारे रिकॉर्ड में नहीं हैं। लेकिन खुशी की बात यह है कि 1.2 करोड़ मामलों में से 1.13 करोड़ लोग ठीक हो चुके हैं।

    हर्षवर्धन ने कहा, ”हम सब जानते हैं कि हमने यह लड़ाई प्रत्येक हितधारक के साथ मिलकर लड़ी है। महामारी के खिलाफ हमारी लड़ाई में सभी लोगों द्वारा किए गए प्रयासों का दस्तावेजीकरण करना कठिन होगा। हमारे सामने 2025 तक टीबी को खत्म करने का एक और लक्ष्य है।”