कोरोना के खिलाफ जंग में देश ने हासिल किया बड़ा मुकाम, वैक्सीन की अब तक 50 करोड़ से ज्यादा दी गई डोज, 20 दिन में लगे 10 करोड़ टीके

585

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि कोराना महामारी के खिलाफ भारत की लड़ाई ने शुक्रवार को उस समय नई ऊंचाई हासिल कर ली जब देश ने टीकाकरण के मामले में 50 करोड़ का आंकड़ा पार कर लिया. प्रधानमंत्री का यह बयान उस वक्त आया जब केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि देश में कोरोना रोधी टीकों की खुराक देने के मामले में भारत ने 50 करोड़ का आंकड़ा पार कर लिया है. शुकवार को भारत में 43.29 लाख टीकों की खुराक दी गई।

प्रधानमंत्री ने एक ट्वीट में कहा, ‘कोविड-1 के खिलाफ भारत की लड़ाई में भारत ने आज एक नया मुकाम हासिल किया और उसने 50 करोड़ का आंकड़ा पार कर लिया. इस संख्या को आगे बढ़ाते हुए हम सुनिश्चित करना चाहते हैं कि हमारे नागरिकों को ‘सबको टीका, मुफ्त टीका कार्यक्रम के तहत’ इसका लाभ मिले.

इससे पहले केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने ट्वीट किया था, ‘कोरोना वायरस से लड़ाई में भारत ने प्राप्त की ऐतिहासिक उपलब्धि, देश ने टीकाकरण में 50 करोड़ के आंकड़े को पार किया.’ उन्होंने टीकाकरण अभियान की गति का उल्लेख करते हुए बताया कि भारत को 10 करोड़ का आंकड़ा छूने में 85 दिन लगे. वहीं, अगले 45 दिन में 20 करोड़ के आंकडे़ को पार कर गए. वहीं, और 29 दिन बाद 30 करोड़ के आंकड़े पर पहुंच गए. वहीं 24 दिन बाद 40 करोड़ तथा 20 और दिन बाद 50 करोड़ टीकाकरण के आंकड़े को पार कर गए. स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा, ‘यह एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है. आज देश ने 50 करोड़ टीकाकरण का आंकड़ा पार कर लिया है.’

शाम 7 बजे तक की अंतिम रिपोर्ट के मुताबिक शुक्रवार को 43.29 लाख से अधिक खुराकें (43,29,673) दी गयी. मंत्रालय ने कहा कि शुक्रवार को 18-44 उम्र समूह में 22,93,781 लोगों को पहली खुराक जबकि 4,32,281 को दूसरी खुराक दी गई. अब तक इस उम्र समूह में 17,23,20,394 लोगों को पहली खुराक और 1,12,56,317 लोगों को दूसरी खुराक लग चुकी है.

मंत्रालय ने बताया कि पांच राज्यों- मध्य प्रदेश, गुजरात, राजस्थान, महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश में 18-44 उम्र समूह में एक करोड़ से अधिक खुराकें दी गई हैं. अस्थायी रिपोर्ट के मुताबिक टीकाकरण अभियान के 203 वें दिन (6 अगस्त) को कुल 43,29,673 खुराकें दी गई. इनमें से 32,10,613 को पहली खुराक और 11,19,060 लोगों को दूसरी खुराक दी गयी.