चीन में कोरोना का कहर जारी, ज्यादातर शहरों में लगी गतिविधियों पर रोक

329
china covid-19 outbreak

कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों के मद्देनजर चीन ने अपने सबसे बड़े शहर शंघाई में अधिकतर गतिविधियों पर प्रतिबंध लगा दिया है. स्थानीय सरकार के अनुसार, शंघाई के वित्तीय केंद्र पुडोंग जिले और उसके आसपास के क्षेत्रों को सोमवार तड़के से शुक्रवार तक बंद रखा जाएगा, क्योंकि शहर में व्यापक स्तर पर कोविड-19 संबंधी जांच की जा रही है. लॉकडाउन के दूसरे चरण में शहर में शुक्रवार से पांच दिवसीय लॉकडाउन रहेगा.

इस दौरान स्थानीय लोगों को घर पर ही रहना होगा. कार्यालय और व्यावसायिक प्रतिष्ठान बंद रहेंगे और सार्वजनिक परिवहन सेवाएं भी निलंबित रहेंगी. पहले ही 2.6 करोड़ की आबादी वाले शहर के भीतर कई गतिविधियों पर रोक लगा दी गई थी. शंघाई डिज्नी पार्क भी बंद कर दिया गया है. चीन में इस महीने देशभर में 56,000 से अधिक संक्रमण के मामले सामले आए, जिनमें से अधिकतर मामले उत्तर-पूर्वी प्रांत जिलिन में सामने आए हैं.

एक दिन में 47 मामले सामने आए
शंघाई में शनिवार को 47 नए मामले सामने आए थे. चीन ने वैश्चिक महामारी के खिलाफ ‘शून्य सहिष्णुता’ की रणनीति अपनाई है, जिसके चलते मामले बढ़ने पर अधिकतर आर्थिक गतिविधियां बाधित कर दी जाती हैं. चीन में 87 प्रतिशत आबादी का कोविड-19 रोधी टीकाकरण हो चुका है. चीन में कोरोना वायरस की नई लहर के पीछे का कारण ओमिक्रॉन वेरिएंट को माना जा रहा है. चीन के स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि संक्रमण के कारण उत्पन्न हालात गंभीर और जटिल हैं.

कठिन दौर का सामना कर रहा चीन
चीनी अधिकारियों ने कहा कि देश कोरोना वायरस के कारण सबसे कठिन दौर का सामना कर रहा है. चीन ने महामारी के शुरुआत से ही नियंत्रण में रखा है. यहां तब भी अधिक मामले सामने नहीं आए, जब अमेरिका और यूरोप के कई देश संक्रमण को तमाम कोशिशों के बावजूद भी नियंत्रित नहीं कर पा रहे थे. चीन ने जीरो कोविड नीति का पालन किया है. यहां के रोग नियंत्रण केंद्र (सीडीसी) के संक्रामक बीमारी विशेषज्ञ वू जुनयू ने भी हाल ही में कहा था कि चीन जीरो कोविड के लक्षय का पालन करने की दिशा में ही काम कर रहा है. क्योंकि यह कोविड-19 को रोकने के लिए सबसे कारगर रणनीति है. इससे महामारी के छिपे हुए खतरे का उन्मूलन करना संभव है.