School Reopening: स्‍कूलों को खोलने के लिए केंद्र ने जारी की गाइडलाइंस और SOP

516
School Reopening Guidelines

देश में कोरोना वायरस के संक्रमण की रफ्तार अब धीरे-धीरे कमजोर होने लगी है, जिससे जनजीवन अब सामान्य होने लगा है और राज्यों में कोविड-19 को लेकर लगाए गए प्रतिबंधों में अब ढील दिया जाना भी जारी है. वहीं कई राज्यों में स्कूल, कॉलेज और यूनिवर्सिटी फिर से खुलने लगे हैं. शिक्षा मंत्रालय ने अपना बयान जारी किया है और कहा है कि 11 राज्यों में स्कूल पूरी तरह से खुले हुए हैं जबकि 9 राज्यों में अभी भी शैक्षाणिक संस्थान बंद हैं. स्कूलों को खोलने के लिए केंद्र सरकार ने नए दिशा-निर्देश जारी किए हैं.

स्कूलों को खोलने के लिए केंद्र सरकार के द्वारा जारी किए गए इन नए दिशा-निर्देशों का पालन स्कूल, कॉलेज और यूनिवर्सिटी को फिर से खोलने के दौरान किया जाएगा. कोविड संक्रमण को लेकर केंद्र सरकार लगातार नजर बनाए रख रही है और लंबे विचार-विमर्श के बाद केंद्र ने स्कूलों के लिए यह गाइडलाइंस जारी की है. इस नए गाइडलाइंस में स्कूलों को फिर से खोलने और सोशल डिस्टेंसिंग के साथ पढ़ाई की व्यवस्था पर जोर दिया गया है.

मध्य प्रदेश, पश्चिम बंगाल, हरियाणा और महाराष्ट्र, बिहार सहित देश के कई राज्यों ने स्कूलों को खोलने की अनुमति दे दी है और यहां स्कूल खुल रहे हैं. वहीं दिल्ली सरकार ने अभी तक स्कूलों को खोलने का निर्णय नहीं लिया है. स्कूलों को खोलने के फैसले पर आज डीडीएमए की बैठक होगी और इस बैठक में तय होगा कि स्कूल खोले जाएं या नहीं.

कहा जा रहा है कि दिल्ली में शुक्रवार के बाद कोरोना के लिए जारी की गईं कुछ और पाबंदियों को हटाया जाएगा. आज दोपहर 12 बजे बैठक बुलाई गई है, जिसमें जिम से लेकर स्कूल खोलने तक के बारे में फैसला होगा. सूत्रों के मुताबिक पहले चरण में 9वीं से 12वीं क्लास के स्कूल खोले जा सकते हैं. इसके साथ ही नाइट कर्फ्यू हटाने के बारे में भी फैसला लिया जाएगा.

कहां-कहां खुले स्कूल

पश्चिम बंगाल में खुले स्कूल

पश्चिम बंगाल में गुरुवार से 8वीं से लेकर 12वीं कक्षा तक के स्कूल खोल दिए गए हैं. वहीं अभी पहली से 7वीं कक्षा के छात्रों को स्कूल बुलाने का फैसला नहीं लिया गया है.

मध्य प्रदेश में खुले स्कूल

मध्य प्रदेश में भी 1 फरवरी से स्कूल खुल गए हैं, सरकार के आदेश के अनुसार, 1 फरवरी कक्षा से 12 तक सभी कक्षाएं 50% उपस्थिति के साथ खोले गए हैं. राज्य के आवासीय विद्यालय और छात्रावास भी 50% उपस्थिति के साथ खुल गए हैं.

पुणे में 8वीं तक के स्कूल खुले

1 फरवरी से महाराष्ट्र के पुणे जिले में भी कक्षा 1 से कक्षा 8वीं तक के स्कूलों को खोल दिया गया है. हालांकि कक्षाएं हाफ डे के रूप में चलाई जा रही हैं. वहीं, 9वीं और 10वीं की कक्षाएं अपने नियमित समय पर चल रही हैं.

झारखंड में खुले स्कूल

झारखंड की हेमंत सरकार ने भी 1 फरवरी से कक्षा 1 से 12वीं कक्षा के छात्र-छात्राओं के लिए स्कूल खोल दिए हैं. हालांकि कक्षा 9वीं से 12वीं कक्षा तक के स्कूल प्रदेश के 7 जिलों में ही खोले गए हैं.

तेलंगाना में खुले स्कूल

तेलंगाना में भी 1 फरवरी से सभी स्कूलों को खोल दिया गया है. हालांकि सरकार ने कहा है कि कोरोना के सख्त नियमों का स्कूल संचालकों को पालन करना होगा. कुछ स्कूलों ने सुबह 8 बजे से 1 बजे तक ऑफलाइन कक्षाएं चलाने का निर्णय लिया है.

राजस्थान में खुले स्कूल

राजस्थान में भी 1 फरवरी से 10वीं और 12वीं कक्षा तक के लिए स्कूल खोल दिए हैं और कक्षा 6ठी और 8वीं कक्षा के छात्रों के स्कूलों को खोलने का फैसला 10 फरवरी के बाद होगा.

हरियाणा में स्कूल खुल गए

हरियाणा सरकार ने 1 फरवरी से 10वीं, 11वीं और 12वीं कक्षा के छात्रों के लिए स्कूल खोल दिए गए हैं. साथ ही स्कूल संचालकों को कोरोना गाइडलाइंस का सख्ती से पालन करने का निर्देश दिया गया है.

महाराष्ट्र में जनवरी में ही खुल गए स्कूल

महाराष्ट्र में पहली से लेकर 12वीं क्लास तक के स्कूल जनवरी में खुल गए हैं. स्कूलों में अब ऑफलाइन पढ़ाई शुरू हो गई है. कोविड नियमों का पालन करते हुए स्कूल में पढ़ाई हो रही है.

निर्धारित शेड्यूल पर ऑफलाइन ही होंगी महाराष्ट्र बोर्ड की परीक्षाएं

महाराष्ट्र शिक्षा बोर्ड ने स्पष्ट कर दिया है कि 10वीं, 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं अपने निर्धारित शेड्यूल के अनुसार ऑफलाइन ही आयोजित की जाएंगी. 10वीं कक्षा की परीक्षाएं 17 मार्च से जबकि 12वीं कक्षा की परीक्षाएं 4 मार्च 2022 से आयोजित की जाएंगी.

बिहार में 7 फरवरी से खुलेंगे स्कूल

बिहार में भी कोरोना के मामलों में कमी आने के बाद राज्य सरकार ने सात फरवरी से स्कूलों को खोलने का निर्णय लिया है. इसके लिए दिशा निर्देश जारी किए जाएंगे.

स्कूलों के लिए जरूरी गाइडलाइंस

– पर्याप्त साफ-सफाई और सुविधाएं सुनिश्चित की जाए.

– सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हो.

– ऐसे कार्यक्रम आयोजित नहीं किए जाएं, जिसमें सोशल डिस्टेंसिंग संभव न हो.

– आने वाले सभी छात्र, शिक्षक और कर्मचारी मास्क पहनकर आएं.

-यूनेस्को के अनुसार, कोरोना संक्रमण को लेकर दुनिया में भारत में सबसे ज्यादा दिन स्कूल बंद रहे हैं. यहां 82 सप्ताह या डेढ़ साल तक स्कूल बंद रहे. यह अवधि मार्च 2020 से अक्टूबर 2021 के बीच की रही. वहीं इस मामले में युगांडा पहले नंबर पर रहा. यहां स्कूल 83 सप्ताह तक बंद रहे.