Bengal Violence: CBI ने थामी बीरभूम हिंसा की कमान, मामला दर्ज कर अब शनिवार से शुरू करेगी जांच

    223
    bhirbhum hinsa

    पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले में आठ लोगों की हत्या की जांच की जिम्मेदारी केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) ने संभाल ली है. सीबीआई ने इस घटना के सिलसिले में शुक्रवार को मामले दर्ज किए. एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी. कलकत्ता उच्च न्यायालय द्वारा केंद्रीय एजेंसी को जांच की जिम्मेदारी संभालने का निर्देश दिये जाने के शीघ्र बाद सीबीआई ने यह कदम उठाया. अधिकारी कहा कि कोलकाता से सीबीआई अधिकारियों की एक टीम शुक्रवार रात बीरभूम जिले के बोगतुई गांव पहुंचेगी, जहां 21 मार्च को बदमाशों ने 10 घरों में आग लगा दी थी, जिसमें महिलाओं और बच्चों सहित कम से कम आठ लोगों की मौत हो गई. सीबीआई शनिवार से मामले की जांच शुरू करेगी.

    गौरतलब है कि उच्च न्यायालय ने शुक्रवार को सीबीआई को राज्य पुलिस से मामले की जांच अपने हाथ में लेने और सुनवाई की अगली तारीख पर प्रगति रिपोर्ट पेश करने का निर्देश दिया. इससे पहले दिन में, सीबीआई की केंद्रीय फॉरेंसिक विज्ञान प्रयोगशाला (सीएसएफएल) इकाई ने साक्ष्य एकत्र करने के लिए वारदात स्थल का दौरा किया. सीएफएसएल टीम के एक सदस्य ने कहा कि हम अभी ज्यादा कुछ नहीं कह सकते. हम यहां अपनी जांच के तहत नमूने लेने आए हैं.

    इस बीच, तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के गिरफ्तार किए गए अपने नेता एवं रामपुरहाट ब्लॉक-एक के पूर्व अध्यक्ष अनारुल हुसैन ने दावा किया कि उन्होंने पुलिस के सामने आत्मसमर्पण कर दिया है. हुसैन ने कहा कि दीदी (टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी) ने ऐसा करने का निर्देश दिया था, जिसके बाद पुलिस के सामने आत्मसमर्पण कर दिया. पुलिस ने शुक्रवार को कहा था कि हुसैन को तारापीठ के पास एक होटल के बाहर से गिरफ्तार किया गया था. पुलिस अधिकारी पहले हुसैन को पकड़ने के लिए उनके आवास पर गए थे, लेकिन वह उस समय घर में मौजूद नहीं थे. स्थानीय अदालत ने उन्हें 14 दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया है