Corona के नए स्ट्रेन की दहशत के बीच, हवाई सेवा दोबारा शुरू होने के बाद आज यूके से दिल्ली लौटे 256 यात्री

243

देश में कोरोना के नए स्ट्रेन के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं, एक तरफ वैक्सीनेशन राहत की खबर है तो दूसरी ओर नया स्ट्रेन लोगों के लिए चिंता का विषय बनता जा रहा है। भारत और ब्रिटेन के बीच हवाई यात्राएं आज से फिर शुरू हो गई हैं। 

शुक्रवार को यूनाइटेड किंगडम से दिल्ली लैंड हुई पहली उड़ान से 256 यात्री आए। भारत में अब कोरोना के नए स्ट्रेन मामले बढ़कर 75 हो गए हैं। सरकार ने ब्रिटेन से आई फ्लाइट के सभी यात्रियों और क्रू सदस्यों के लिए आरटी-पीसीआर टेस्ट जरूरी कर दिया है। इसके लिए एयरपोर्ट पर ही जरूरी इंतजाम किए गए हैं।

यात्रियों को एयरपोर्ट से बाहर तभी जाने दिया जाएगा, जब उनकी कोरोना रिपोर्ट सामने आ जाएगी। नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि हर हफ्ते 30 फ्लाइट्स संचालित की जाएंगी। 15 भारत से और 15 ब्रिटेन से संचालित होंगी। इसके अलावा दिल्ली उतरने वाले यात्रियों से अपील है कि वो अपनी कनेक्टिंग फ्लाइट से करीब दस घंटे का गैप रखें। 

इस बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने केंद्र सरकार से अपील है कि वो 31 जनवरी तक ब्रिटेन से भारत आ रही उड़ानों पर अस्थायी रोक लगा दें। ऐसा इसलिए क्योंकि ब्रिटेन में फैला कोरोना का नया स्ट्रेन मौजूदा वायरस से ज्यादा खतरनाक है। 

जिलाधिकारी मनीष सिंह ने दिल्ली के राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र (एनसीडीसी) की जांच में 39 वर्षीय व्यक्ति में कोविड-19 का वही नया स्वरूप मिला है जो ब्रिटेन में सामने आया है। उन्होंने हालांकि बताया कि इंदौर के उपनगरीय इलाके राऊ के अपने घर में पृथक-वास (होम आइसोलेशन) में रह रहे इस व्यक्ति की हालत ठीक है और उसमें महामारी के लक्षण भी नहीं हैं।

सिंह ने बताया कि इस व्यक्ति के ब्रिटेन से लौटने के बाद 39 लोग उसके संपर्क में आए थे, इनमें से 34 लोग इंदौर के बाहर के जिलों के हैं और उनके बारे में संबंधित स्थानों के प्रशासन को पहले ही सूचना दी जा चुकी है।

उन्होंने बताया कि इंदौर में इस व्यक्ति के संपर्क में आए पांच लोगों की कोविड-19 की जांच करा ली गई है जिनमें उसके दो परिजन शामिल हैं। ये सभी लोग स्वस्थ हैं। स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि 39 वर्षीय शख्स छह दिसंबर को ब्रिटेन से इंदौर लौटा था, उसकी इस यात्रा की जानकारी स्थानीय प्रशासन को सरकार से 23 दिसंबर को मिली और आरटी-पीसीआर पद्धति से कराई गई जांच में वह कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया था।

चिकित्सा शिक्षा विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि एक अन्य मामले में 29 वर्षीय एक व्यक्ति स्कॉटलैंड से 18 दिसंबर को इंदौर लौटा था और वह आरटी-पीसीआर पद्धति से स्थानीय स्तर पर की गई जांच में कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया था।