बिहार में घने कोहरे और धुंध के कारण देरी से उड़ रहे विमान, कम हुई विजिबिलिटी

362

बिहार में ठंड के साथ-साथ कोहरे का भी असर देखने को मिल रहा है. बुधवार सुबह राजधानी पटना घने कोहरे की चादर में लिपटा रहा, जिसका सीधा असर यातायात पर पड़ने लगा है. कोहरे और धुंध के कारण सड़कों पर वाहन चालकों को हेडलाइट जलाकर चलना पड़ा. घने कोहरे के कारण पटना में विजिबिलिटी 100 मीटर तक पहुंच गई है. मौसम विभाग ने अगले 24 घंटे में न्यूनतम तापमान में गिरावट और घने कोहरे छाए रहने का पूर्वानुमान जताया है.

मंगलवार को भी घने कोहरे का असर दिखा था, जिस वजह से पटना एयरपोर्ट से 13 विमान देर से उड़े. घने धुंध के कारण रनवे के आसपास 400 मीटर तक विजिबिलिटी घट गई थी. दोपहर 11 बजे एक हजार मीटर से ऊपर विजिबिलिटी हुई और 2.55 घंटे की देरी से दोपहर 11.15 में यहां पहली लैंडिंग हुई.

बता दें कि इस बार सर्वाधिक ठंड 8 दिसम्बर को दर्ज की गई, बल्कि अधिकतम तापमान गिरने से पिछले एक दशक का रिकार्ड भी टूट गया. अधिकतम तापमान में 5.4 डिग्री की गिरावट दर्ज की गई. अधिकतम तापमान 20.1 सेल्सियस दर्ज किया गया जो पिछले 10 वर्षों में सबसे कम तापमान रहा. मंगलवार को पारा गिरने के साथ पछिया हवा चलने से शीतलहर जैसी स्थिति दिन भर बनी रही.

मौसम विज्ञान केंद्र पटना एवं डॉ राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय पूसा के मौसम विभाग ने बिहार में लगातार ठंड बढ़ने एवं कोहरे और धुंध का पूर्वानुमान जताया है. खास तौर पर उत्तर बिहार में 13 दिसंबर तक का पूर्वानुमान जारी किया है. इसके मुताबिक उत्तर बिहार के जिलों में हल्के बादल छाये रह सकते हैं. सुबह में घना कोहरा छाया रह सकता है.