बिहार विधानसभा चुनाव के प्रचार में नीतीश बोले – किसी में दम नहीं कि हमारे लोगों को देश से बाहर कर दे

316

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुधवार को कहा कि कुछ लोग ऐसी फालतू बातें कर रहे हैं कि लोगों को देश के बाहर कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा, ‘‘किसी में दम नहीं कि हमारे लोगों को देश से बाहर कर दे।’’ नीतीश कुमार ने किशनगंज में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए यह बात कही, जहां मुसलमानों की अच्छी खासी आबादी है। मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन के दौरान अल्पसंख्यकों के कल्याण के लिये उनकी सरकार द्वारा किये गए कार्यों का भी उल्लेख किया।

कुमार ने कहा, ‘‘ये कौन दुष्प्रचार करता रहता है, फालतू बातें कहता रहता है। यहां से, देश से कौन किसको बाहर करेगा। देश में किसी में दम नहीं है कि हमारे लोगों को बाहर करे।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ सभी लोग हिन्दुस्तान के हैं, कौन बाहर करेगा?’’ विपक्ष पर परोक्ष रूप से निशाना साधते हुए नीतीश ने कहा कि कुछ लोग चाहते हैं कि समाज में झगड़ा चलता रहे और काम करने की जरूरत नहीं हो। गौरतलब है कि मुख्यमंत्री के इस बयान को संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) को लेकर एआईएमआईएम सहित कुछ विपक्षी दलों के आरोपों से जोड़कर देखा जा रहा है।

नीतीश ने कहा, ‘‘हमको जब से काम करने का मौका मिला, हमने समाज में शांति, भाईचारा और सद्भाव का माहौल बनाने के लिये काम किया, क्योंकि समाज में जब सद्भाव रहेगा तभी लोग तरक्की करेंगे।’’ उन्होंने कहा, ‘‘जब हमें काम करने का मौका मिला, तब हमने कहा था कि न्याय के साथ विकास किया जाएगा और अपना वादा पूरा किया।’’ उन्होंने कहा, ‘‘हमने अपराध पर नियंत्रण, आर्थिक स्थिति में सुधार समेत न्याय के साथ विकास का काम किया। महिलाओं को सम्मान देने का काम किया।’’

राजद पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि पहले कोई काम नहीं हुआ, कोई विकास नहीं हुआ । कुमार ने कहा कि पहले लालटेन का युग था और काम करने का मौका मिलने पर उनकी सरकार ने बिजली की आपूर्ति में सुधार किया। उन्होंने कहा कि 2018 के अक्टूबर में ही उनकी सरकार ने हर घर में बिजली पहुंचायी। उन्होंने कहा कि सिंचाई के लिए बिजली की व्यवस्था करने के साथ घर-घर शौचालय का निर्माण कराया गया। उन्होंने प्रदेश में अनेक मेडिकल कॉलेज एवं शैक्षणिक संस्थान स्थापित करने का भी जिक्र किया।

बिहार के मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘अगर इस बार हमें मौका मिलेगा तो हर गांव में सोलर स्ट्रीट लाइट लगाएंगे, साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दिया जाएगा और हर खेत तक सिंचाई के लिए बिजली पहुंचायी जाएगी। महिलाओं के कल्याण के लिये अपनी सरकार के कार्यों का उल्लेख करते हुए कुमार ने कहा कि पहले कितना बुरा हाल था महिलाओं का। मुख्यमंत्री ने कहा कि जब उन्हें काम करने का मौका मिला तब पंचायतों एवं शहरी निकायों में महिलाओं को आरक्षण दिया। इसके अलावा अनुसूचित जाति, जनजाति, अति पिछड़े वर्गों को आरक्षण दिया। उन्होंने कहा कि अब पंचायतों एवं शहरी निकायों में महिलाओं एवं पिछड़े वर्गों का प्रतिनिधित्व काफी बढ़ गया है।

उन्होंने कहा कि महिलाओं को राज्य की सरकारी नौकरियों में 35 प्रतिशत आरक्षण दिया गया है। राजद के शासनकाल का हवाला देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि पहले न पढ़ाई की व्यवस्था थी, न इलाज का इंतजाम था और न लोगों के आने-जाने की सुविधा थी। पूर्ववर्ती सरकार में कानून एवं व्यवस्था की खराब स्थिति का जिक्र करते हुए कुमार ने कहा, ‘‘पहले कितना अपराध था, कितना विवाद और दंगा होता था, जंगलराज की चर्चा होती थी लेकिन हमने कानून का राज स्थापित किया।’’ उन्होंने कहा कि कुछ लोगों को विकास से कोई मतलब नहीं होता और समाज में बाधा पैदा करके ही समर्थन हासिल करना चाहते हैं। नीतीश ने किशनगंज के अलावा अररिया और सहरसा में भी चुनावी सभाओं को संबोधित किया।