बिहार में आज तीसरे चरण का मतदान – 78 सीटों पर होगी वोटिंग, 33782 मतदान केंद्रों पर सुरक्षा चाकचौबंद

299

पटना. बिहार में चुनाव (Bihar Election 2020) के तृतीय और अंतिम चरण (Third Anad Last phase) के तहत 78 विधानसभा क्षेत्रों में शनिवार को होने वाले मतदान (Vote) के लिये सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं. तथा इन सभी क्षेत्रों में 33,782 मतदान केंद्रों के लिये इतनी ही संख्या में इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) सेट तथा वीवीपीएटी के प्रबंधन किये गए हैं. बिहार राज्य निर्वाचन आयोग (Bihar State Election Commission) के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय की ओर से जारी बयान में यह जानकारी दी गई है. आयोग ने कहा है कि वह पारदर्शी चुनाव कराने के लिये कृतसंकल्प है तथा कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए सभी उपाय किये जा रहे हैं.

बयान में कहा गया है कि तीसरे चरण के तहत कुल 78 विधानसभा क्षेत्रों सहित बाल्मिकीनगर लोकसभा सीट पर उपचुनाव के लिये सात नवंबर को मतदान के लिये सभी प्रशासनिक स्तर की तैयारियां पूरी कर ली गई हैं. आयोग ने कहा कि सभी 78 विधानसभा क्षेत्रों में 33,782 मतदान केंद्रों के लिये इतनी ही संख्या में इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) सेट तथा वीवीपीएटी के प्रबंधन किये गए हैं. मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि मतदान केंद्रों पर चाकचौबंद सुरक्षा व्यवस्था के तहत अर्द्धसैनिक बलों की तैनाती की गई है तथा चुनिंदा मतदान केंद्रों पर लाइव वेबकास्टिंग की भी व्यवस्था होगी. बयान के मुताबिक नदी से लगे इलाकों में निगरानी रखी जायेगी और घुड़सवार दस्ते और हवाई निगरानी की भी व्यवस्था होगी.

3,120 हथियारों के लाइसेंस रद्द किये गए
आयोग ने बताया कि आदर्श चुनाव आचार संहिता लागू होने की तारीख के बाद से अब तक बीकन लाइट, झंडा आदि के दुरुपयोग के 125 मामले, लाउडस्पीकर अधिनियम के उल्लंघन के 42 मामले, अवैध बैठक करने के 135 मामले, मतदाताओं को अनुचित लाभ पहुंचाने के 13 मामले, अन्य तरह के उल्लंघन के 186 मामलों सहित कुल 501 मामले दर्ज किये गए हैं. आयोग के मुताबिक, मतदान से पूर्व निष्पक्ष एवं भयमुक्त वातावरण तैयार करने के मकसद से 1,320 अवैध हथियार जब्त किये गए, इसके अलावा 65,919 हथियार सत्यापित किये गए जिनमें से 25,488 शस्त्र जमा कराये गए और 3,120 हथियारों के लाइसेंस रद्द किये गए.

बयान में कहा गया कि छह महीने से ज्याद समय से लंबित 26,413 वारंटों और छह महीने से कम समय से लंबित 31,696 वारंटों पर अमल किया गया. आयोग ने बताया कि वाहन की जांच से इस अवधि में 19,73,36,680 रुपये की वसूली की गई. बयान के अनुसार, बिहार विधानसभा 2020 के स्वच्छ एवं पारदर्शी संचालन हेतु केंद्र और राज्य सरकार की कई प्रवर्तन एजेंसियां काम कर रही है एवं इस सघन प्रयास के तहत अब तक 25.11 करोड़ रुपये नकद के अलावा 8,40,809 लीटर शराब, 19.73 किलोग्राम सोना, 275 किलोग्राम चांदी, 116.61 किलोग्राम चरस, 1.5 किलोग्राम हेरोईन तथा 150 ग्राम ब्राउनशुगर जब्त किया गया है.
मास्क एवं फेसशिल्ड की व्यवस्था की गई है
आयोग से प्राप्त जानकारी के अनुसार, आदर्श आचार संहिता लागू होने की तिथि से छह नवंबर 2020 तक कुल जब्ती 66.41 करोड़ रूपये से ज्यादा मूल्य की रही, जो 2019 के लोकसभा चुनाव तथा 2015 के बिहार विधानसभा चुनाव के दौरान आदर्श आचार संहिता के दौरान बिहार में हुई कुल जब्ती से भी ज्यादा है. आयोग के मुताबिक, बिहार विधानसभा निर्वाचन 2020 के दौरान कोविड दिशानिर्देशों के अनुपालन के संबंध में तमाम एहतियाती कदम उठाये गए हैं. बयान के मुताबिक कोरोना वायरस से बचाव हेतु पूरे राज्य में सेनिटाइजर की 6,39,156 बोतल, 1,06,526 इंफ्रारेड थर्मामीटर के अलावा दास्ताने, मास्क एवं फेसशिल्ड की व्यवस्था की गई है.

7 नवंबर को तीसरे चरण का मतदान होगा
आयोग ने बताया कि स्वच्छ एवं निष्पक्ष चुनाव की तैयारियों के तहत राज्य स्तर पर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी बिहार के कार्यालय में ‘स्टेड कॉल सेंटर’ सुबह सात बजे से रात्रि नौ बजे तक कार्यरत रहेगा. गौरतलब है कि बिहार के 243 सदस्यीय विधानसभा के लिये तीन चरणों में मतदान हो रहा है. इसके तहत प्रथम चरण का मतदान 28 अक्तूबर और द्वितीय चरण का मतदान तीन नवंबर को हो चुका है. अब सात नवंबर को तीसरे चरण का मतदान होगा.