उद्धव ठाकरे को लगा बड़ा झटका, चुनाव आयोग ने शिंदे को सौंपी शिवसेना और तीर कमान का निशान..

237

निर्वाचन आयोग ने एकनाथ शिंदे नीत को असली शिवसेना के रूप में मान्यता दे दी है इसी के साथ आयोग ने कहा कि पार्टी का चुनाव चिन्ह तीर कमान और नाम शिवसेना अब एकनाथ शिंदे गुट के पास रहेगा ज्ञात हो कि शिवसेना के दोनों गुट एकनाथ शिंदे और उद्धव ठाकरे पार्टी के धनुष और तीर के निशान के लिए लड़ रहे हैं बता दें कि पिछले साल अक्टूबर में उपचुनाव से पहले चुनाव आयोग ने उद्धव ठाकरे और शिंदे गट को नया नाम सौंपा था आयोग ने उद्धव को नाम के रूप में शिवसेना उद्धव बाल साहब ठाकरे आवंटित किया और निशान के तौर पर उद्धव को जलती मशाल मिला था वही आयोग ने एकनाथ शिंदे गुट के लिए पार्टी के नाम के रूप में बालासाहेब शिवसेना आवंटित किया था चुनाव चिन्ह के तौर पर सिंधी को तलवार ढाल मिला था।

उच्चतम न्यायालय में शिवसेना के दोनों दलों के बीच कानूनी लड़ाई चल रही

दरअसल पार्टी पर नियंत्रण के लिए चली लंबी लड़ाई के बाद 78 पृष्ठों के अपने आदेश में आयोग ने उद्धव ठाकरे गुटको राज्य में विधानसभा चुनाव के पूरा होने तक मशाल चुनाव चिन्ह रखने की अनुमति दी आयोग ने कहा कि वर्ष 2019 के महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में शिवसेना के 55 विजई उम्मीदवारों में से एक नाथ शिंदे का समर्थन करने वाले विधायकों के पक्ष में लगभग 76 फ़ीसदी मत पड़े फिलहाल चुनाव आयोग का यह फैसला ऐसे समय में आया है जब उच्चतम न्यायालय में शिवसेना के दोनों दलों के बीच कानूनी लड़ाई चल रही है पिछले साल शिवसेना में विभाजन के बाद उच्चतम न्यायालय में दायर की गई याचिका में अध्यक्ष की शक्तियों समेत कई मुद्दे उठाए गए हैं उच्चतम न्यायालय ने कहा था कि शिवसेना में मतभेद से उपजा महाराष्ट्र के राजनीतिक संकट से जुड़े मुद्दे फैसला करने के लिहाज से कठिन संवैधानिक मुद्दे हैं और इससे राजनीति पर बहुत गंभीर असर पड़ेगा।