आरोप : अडानी समूह ने किया ब्रांडिंग और लोगो समझौते का उल्लंघन, एएआई की आपत्ति पर सुधार

415

अडानी समूह की तीन कंपनियों अडानी लखनऊ इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड, अडानी मंगलूरू इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड और अदाणी अहमदाबाद इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड पर लखनऊ, अहमदाबाद और मंगलूरू एयरपोर्ट पर ब्रांडिंग और लोगो मानदंडों के उल्लंघन का आरोप लगा है।

आरोप में पाया गया है कि तीनों एयरपोर्ट पर भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (एएआई) के नाम और लोगो को दबाते हुए समूह की कंपनियों के प्रमोशन, डिस्प्ले, विज्ञापन और उनकी ब्रांडिंग को बढ़ावा दिया गया। हालांकि, कंपनियों ने करार की शर्तों के तहत गड़बड़ी की बात से इनकार कर दिया।

एएआई ने जनवरी, 2021 में तीनों एयरपोर्ट पर लगे होर्डिंग और डिस्प्ले के संयुक्त सर्वे के लिए अलग-अलग तीन समितियां बनाईं। प्रत्येक समिति में चार सदस्य थे, जिनमें अदाणी समूह की कंपनी का एक कार्यकारी (एयरपोर्ट का संचालन करने वाला), केंद्र की ओर से संचालित इंजीनियरिंग प्रोजेक्ट्स (इंडिया) लिमिटेड का एक अधिकारी और एएआई के दो अधिकारी शामिल थे।

इन समितियों ने जांच में पाया कि ब्रांडिंग और डिस्प्ले के लिहाज से करार की शर्तों का उल्लंघन हुआ है। एएआई का कहना है कि आरोप सही पाए जाने पर तीनों कंपनियों ने करार की शर्तों के मुताबिक ब्रांडिंग और डिस्प्ले में बदलाव शुरू कर दिया है। 

लखनऊ एयरपोर्ट के लिए बनी समिति ने जनवरी के अंतिम दिनों में दी रिपोर्ट में कहा था कि एयरपोर्ट आने-जाने वाली सड़क पर लगे लखनऊ इंटरनेशनल एयरपोर्ट की होर्डिंग के दोनों तरफ अडानी एयरपोर्ट्स लिखा था। एयरपोर्ट का प्रबंधन करने वाली कंपनियों के दूसरे डिस्प्ले पर एएआई के नाम और लोगो प्रमुखता से प्रदर्शित नहीं थे। मंगलूरू और अहमदाबाद एयरपोर्ट के लिए बनी समिति ने भी इस नियम का उल्लंघन पाया था।

करार के तहत प्रमोशन, डिस्प्ले, विज्ञापन और ब्रांडिंग का काम एयरपोर्ट के नाम के साथ ही किए जाने हैं। तीनों एयरपोर्ट का परिचालन करने वाली कंपनियां अगर सार्वजनिक जगहों पर अपना या अपने शेयरधारकों का नाम डिस्प्ले करना चाहती हैं तो सबसे पहले एएआई का नाम और लोगो आएगा।

अडानी समूह का फरवरी 2020 में एएआई के साथ करार हुआ था। तीनों एयरपोर्ट की कमान अक्तूबर और नवंबर 2020 में समूह के हाथों में आ गई। दिसंबर 2020 में एएआई ने पाया कि तीनों एयरपोर्ट पर ब्रांडिंग एवं डिस्प्ले करार की शर्तों के अनुरूप नहीं हैं।

समूह के प्रवक्ता ने सफाई दी, एएआई और अडानी समूह में साझा ब्रांडिंग और अन्य पहलुओं पर आपसी सहमति है। करार के अनुसार, एएआई और परिचालक दोनों के लोगो एक साथ समान आकार में प्रदर्शित किए जाएंगे।