अखिलेश यादव ने मायावती पर किया पलटवार, लगाए कई बड़े आरोप..

743
bhn
bhn

रामचरितमानस प्रकरण में समाजवादी पार्टी पर हमला करते हुए बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती ने कहा कि देश में कमजोर एवं उपेक्षित वर्गों का ग्रंथ रामचरितमानस किया मनुस्मृति नहीं बल्कि भारतीय संविधान है वहीं अब सपाची अखिलेश ने मायावती के आरोपों का जवाब दिया है हरदोई पहुंचे अखिलेश ने पत्रकारों से बातचीत में कहा अरे मेरे पत्रकार साथी बीजेपी की होशियारी यह भी नहीं समझ पाए आप बीजेपी होशियारी पार्टी है वह जो जवाब नहीं देना चाहती कभी कभी दूसरे दलों को आगे करना चाहती है जहां तक सवाल सविधान का है हमने 26 जनवरी को कहा था कि हम समाजवादियों के लिए सबसे बड़ा धर्म अगर कोई है तो हमारा संविधान है।

यह भी पढ़े : ऊर्जा मंत्री ने बिजली उपकेंद्र का किया लोकार्पण, कहा- एक साल में UP को 24 घंटे बिजली आपूर्ति..

दरअसल सपा मुखिया ने आगे कहा हम इस लोकतंत्र की पूजा करते हैं संविधान हमें अधिकार देता है यह बताये संविधान में कहा कहा कि भेदभाव करें हम संविधान में कहां-कहां की धर्म को ऊंचा नीचा दिखाए हमारे डॉक्टर साहब भीमराव अंबेडकर राम मनोहर लोहिया ने जो आंदोलन चलाया जो लड़ाई लड़ी क्या उसकी तहत हमें अधिकार मिल रहे हैं बीजेपी वही अधिकार छीन रही है और लोगों को अपमानित कर रही है यह भाजपा के इशारे पर कई दल समय-समय पर बाहर निकल कर आते हैं।