फांसी पर लटके मिले महंत नरेंद्र गिरि, पुलिस ने बताई आत्महत्या, शिष्य बोले – मर्डर है

    328

    अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि मृत पाए गए हैं. महंत नरेंद्र गिरि अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष थे. वह प्रयागराज में अपने स्थानीय घर बाघम्बरी मठ में मृत अवस्था में मिले हैं. उनका शव पंखे से लटकता हुआ मिला है. फोरेंसिक टीम और स्पेशल टीम मौके पर पहुँच गई है. कई सीनियर अधिकारी भी मौके पर हैं. और जांच कर रहे हैं. एक शिष्य ने नरेंद्र गिरि की हत्या का आरोप लगाया है. वहीं पुलिस का कहना है कि पहली नज़र में ये मामला सुसाइड का लग रहा है. एक सुसाइड नोट भी मौके से मिला है.

    वहीं, बताया जा रहा है कि महंत नरेंद्र गिरि का कुछ समय से कुछ लोगों से विवाद चल रहा था. ये लोग संत समाज के ही थे. महंत का शव मिलने से सनसनी फैल गई है. बड़ी संख्या में पुलिस मौके पर है. लोग भी घटनास्थल पर मौजूद है. बेहद गहनता से मौके की जांच की जा रही है.

    शिष्य ने लगाया हत्या का आरोप
    वहीं, हमारी सहयोगी वेबसाइट जी न्यूज़ के मुताबिक महंत के शिष्य आनंद गिरि ने बड़ा आरोप लगाया है. आनंद गिरि ने कहा कि नरेंद्र गिरि गुरुजी की हत्या की गई है. इस मामले की उच्च स्तरीय जांच होनी चाहिए. आनंद गिरि ने कहा कि कुछ लोग मेरे और गुरूजी के बीच दूरियां बढ़ाने की कोशिश कर रहे थे. जब मेरी गुरूजी (नरेंद्र गिरि) से बात हुई थी तब वो एकदम ठीक थे.

    सुसाइड नोट मिला: पुलिस
    वहीं, प्रयागराज आईजी केपी सिंह ने सुसाइड की आशंका जताई है. उन्होंने कहा कि प्रथम दृष्टया ये सुसाइड का मामला लग रहा है. उनका (महंत नरेंद्र गिरि) सुसाइड नोट भी मिला है. सुसाइड नोट में उन्होंने लिखा कि मैं बहुत से कारणों से दुखी था इसलिए आत्महत्या कर रहा हूं. मामले में जांच जारी है. प्रयागराज आईजी केपी सिंह ने ये भी कहा कि ‘हमें आश्रम से फोन आया कि महाराज (महंत नरेंद्र गिरि) फंदे से लटक गए हैं. जब हम यहां आए तो देखा कि महाराज ज़मीन पर लेटे हुए थे. रस्सी पंखे में फंसी हुई थी.’