‘जोखिम वाले देशों’ से भारत आए 6 यात्री निकले कोरोना पॉजिटिव, ओमीक्रॉन का पता लगाने के लिए भेजे गए सैंपल

297
covid-19-travel-guidelines

कोरोना वायरस के नए वेरिएंट ऑफ कंसर्न (Variant of Concern) ओमीक्रॉन (Omicron) को देखते हुए अपने यहां अंतरराष्ट्रीय यात्रा संबंधी नए दिशा-निर्देशों को लागू करने के पहले ही दिन देश में हवाई अड्डों पर “जोखिम वाले” देशों से 6 लोग कोरोना से संक्रमित पाए गए हैं.

लखनऊ को छोड़कर देश के कई हवाई अड्डों पर कुल 11 अंतरराष्ट्रीय उड़ानों ने आज बुधवार (1 दिसंबर) की मध्यरात्रि से शाम 4 बजे तक “जोखिम वाले” देशों से लैंड किया, जिनमें 3,476 यात्री सवार थे. सरकार की ओर से जारी प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, इन सभी यात्रियों का आरटी पीसीआर परीक्षण किया गया और उनमें से 6 लोग पॉजिटिव पाए गए. उनके नमूने अब संपूर्ण जीनोमिक सिक्वेसिंग के लिए INSACOG प्रयोगशालाओं में भेजे गए हैं.

देश में बुधवार को 9 हजार नए केस
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के 1 दिसंबर को अपडेट किए गए आंकड़ों के अनुसार, देश में आज कोरोना के 8,954 नए मामले सामने आए, जिससे COVID-19 मामलों की कुल संख्या 3,45,96,776 हो गई, जबकि एक्टिव केस की संख्या 547 दिनों के बाद एक लाख से कम दर्ज किए गए.

सुबह 8 बजे अपडेट किए गए आंकड़ों के अनुसार आज 267 मरीजों की मौत हो गई, जिससे कोरोना से मरने वालों की संख्या बढ़कर 4,69,247 हो गई.

इस बीच ओमीक्रॉन वेरिएंट के खतरों के खिलाफ तैयार करने के अपने प्रयासों के बीच केंद्र सरकार ने बुधवार को अनुसूचित वाणिज्यिक अंतरराष्ट्रीय उड़ान सेवाओं को फिर से शुरू करने की अपनी योजना को स्थगित कर दिया.

20 महीने के अंतराल के बाद शुरू हो रही थी अंतरराष्ट्रीय उड़ान
नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (DGCA) ने कहा कि सरकार निर्धारित अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को “उचित समय” में फिर से शुरू करने के लिए एक नई तारीख की घोषणा करेगी. नागरिक उड्डयन मंत्रालय की ओर से करीब 20 महीने के अंतराल के बाद 15 दिसंबर से ऐसी अंतरराष्ट्रीय उड़ानें फिर से शुरू करने की घोषणा के 5 दिन बाद ही अनुसूचित अंतरराष्ट्रीय हवाई सेवाओं को फिर से शुरू करने को स्थगित करने का निर्णय आया है.

भारत सरकार ने बाद में घोषणा की कि “जोखिम वाले” देशों से आने वाले यात्रियों को 7-दिवसीय क्वारंटीन से गुजरना होगा. उनके नमूने हवाई अड्डों पर आरटी-पीसीआर परीक्षणों के लिए एकत्र किए जाएंगे, और उनके आने के 8वें दिन उनका परीक्षण भी किया जाएगा.

इन देशों से आए लोगों पर रहेगी नजर
“जोखिम वाले” देशों की सूची में यूरोपीय राष्ट्र, इंग्लैंड, दक्षिण अफ्रीका, ब्राजील, बोत्सवाना, चीन, मॉरीशस, न्यूजीलैंड, जिम्बाब्वे, सिंगापुर, हांगकांग और इजराइल शामिल हैं.

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने 26 नवंबर को ओमीक्रॉन को ‘वेरिएंट ऑफ कंसर्न’ के रूप में वर्गीकृत किया था. तब से, कई देशों ने या तो अपनी सीमाओं को आंशिक रूप से बंद कर दिया है या नियमित अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को फिर से शुरू करने की अपनी योजना में देरी कर दी है.

इस बीच केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण की अध्यक्षता में आज बुधवार को एक उच्चस्तरीय बैठक भी हुई, जिसमें राज्यों को सलाह दी गई कि वे सभी पॉजिटिव नमूनों को संपूर्ण जीनोमिक सिक्वेसिंग के लिए INSACOG प्रयोगशालाओं में भेजें.

राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को यह भी कहा गया कि वे अपनी सुरक्षा में कोई कमी नहीं आने दें और विभिन्न हवाई अड्डों, बंदरगाहों और जमीनी सीमा पार से देश में आने वाले अंतरराष्ट्रीय यात्रियों पर कड़ी निगरानी रखें और हॉटस्पॉट की कड़ी निगरानी पर जोर दें.