26/11 Attack: मुंबई आतंकी हमले को 13 साल पूरे, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद सहित वरिष्ठ नेताओं ने शहीदों को दी श्रद्धांजलि

    370

    महाराष्ट्र के मुंबई में साल 2008 में हुए आतंकी हमले की आज 13वीं बरसी है. इसे भारत के इतिहास का सबसे भयावह आतंकी हमला माना जाता है. पूरा देश शहीदों और हमले के पीड़ितों को याद कर रहा है. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (Ramnath Kovind) ने ट्वीट कर कहा है, ’26/11 मुंबई आतंकी हमले के शहीदों और पीड़ितों को मेरी भावभीनी श्रद्धांजलि. कर्तव्य के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले सुरक्षाबलों की बहादुरी और बलिदान के लिए राष्ट्र हमेशा उनका आभारी रहेगा.’

    रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने कहा है, ‘मुंबई पर 26 नवंबर को हुए आतंकी हमले की 13वीं बरसी पर, हम उन बेकसूर लोगों को याद कर रहे हैं, जिन्हें हमने खो दिया है. उन हमलों में जान गंवाने वाले सभी लोगों को मेरी श्रद्धांजलि. हमारे सुरक्षा बलों ने 26/11 के हमलों के दौरान अनुकरणीय साहस का परिचय दिया है. मैं उनकी बहादुरी और बलिदान को सलाम करता हूं.’ विदेश मंत्री एस जयशंकर ने हमले के समय की तस्वीर शेयर करते हुए अपने ट्वीट के कैप्शन में लिखा है, ‘कभी नहीं भूलेंगे.’

    गृहमंत्री ने श्रद्धांजलि अर्पित की
    गृहमंत्री अमित शाह ने अपने ट्वीट में लिखा है, ‘मुंबई 26/11 आतंकी हमलों में जान गंवाने वालों को भावपूर्ण श्रद्धांजलि देता हूं और उन सभी सुरक्षाकर्मियों के साहस को सलाम करता हूं, जिन्होंने कायरतापूर्ण हमलों में आतंकवादियों का डटकर सामना किया. पूरे देश को आपकी वीरता पर गर्व रहेगा (Mumbai Attack). कृतज्ञ राष्ट्र सदैव आपके बलिदान का ऋणी रहेगा.’ कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने वीरों को नमन किया है. अपने ट्वीट में वह लिखते हैं, ‘सीमा पर कठिन मौसम में परिवार से दूर रहकर देश की रक्षा करता है. आतंकवादी हमले में अपनी जान की बाजी लगाकर मासूमों को बचाता है. जान की नहीं, जहान की फिक्र करता है. परिवार की, गांव की, देश की शान है- ऐसा मेरे देश का जवान है. 26/11 मुंबई आतंकी हमले के वीरों को नमन. जय हिंद!’

    पाकिस्तान से मुंबई आए थे आतंकी
    मुंबई में साल 2008 के 26 नवंबर वाले दिन पाकिस्तान से 10 आतंकी मुंबई पहुंचे थे (Pakistan Terrorists). ये लोग समुद्र के रास्ते से यहां पहुंचे थे. इन्होंने कई स्थानों पर अंधाधुंन गोलीबारी की. जिसमें 166 लोगों की मौत हो गई थी. इनमें करीब 15 देशों के लोग शामिल थे. जबकि 300 से अधिक लोग घायल हुए थे. आतंकियों ने मुंबई के ताजमहल पैलेस होटल, नरीमन हाउस, मेट्रो सिनेमा और छत्रपति शिवाजी टर्मिनस सहित कई जगहों पर हुए हमले किए थे