प्रदेश के 10 जिलाधिकारी सबसे फिसड्डी साबित, कई बड़े अफसरों से भी मांगा गया जवाब..

156

यूपी में 10 जिलों के जिलाधिकारियों का प्रदर्शन सबसे खराब रहा है। जिसके बाद उनपर सख्त कार्रवाई तय मानी जा रही है। जानकारी के मुताबिक जनसमस्याओं के निस्तारण में लापरवाही बरतने वाले सभी अधिकारीयों पर जल्द कार्रवाई की जाएगी। इस लिस्ट में बलरामपुर, गाजीपुर, मिर्जापुर, वाराणसी, जौनपुर, एटा, अयोध्या, कन्नौज, संतकबीरनगर, सिद्धार्थनगर जिलों के डीएम शामिल हैं। इन सभी जिलों के जिलाधिकारियों से मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्रा ने स्पष्टीकरण मांगा है।

खराब प्रदर्शन करने वाले SSP व SP:-

खराब प्रदर्शन करने वाले पुलिस अधिकारियों की सूची जारी कर दी गई है। जारी हुई लिस्ट में कानपुर नगर, गोंडा, कानपुर देहात, सुल्तानपुर, सीतापुर, अमेठी, कुशीनगर, बांदा, उन्नाव, बहराइच SP के अलावा प्रयागराज, आजमगढ़, मिर्जापुर, गोरखपुर, वाराणसी के मंडलायुक्त का प्रदर्शन भी अपेक्षा के अनुरूप काफी निराशाजनक पाया गया है। इसके साथ ही सहारनपुर, कानपुर, मेरठ, झांसी, गाजियाबाद के नगर आयुक्त का प्रदर्शन भी काफी खराब पाया गया।

खराब प्रदर्शन करने वाले तहसील व थाने:-

शासन ने खराब प्रदर्शन करने वाले 10 तहसीलों की भी सूची जारी की है। इसमें मोदीनगर, चांदपुर, बलरामपुर, मिर्जापुर,पलिया, गाजियाबाद, उतरौला, रायबरेली, सवायजपुर, महराजगंज, रायबरेली तहसील का प्रदर्शन काफी निराशाजन रहा। वहीं लापरवाही करने वाले 10 थानों की सूची में संदीपनघाट, कौशांबी, बघौचघाट, देवरिया, शिवगढ़ सुल्तानपुर, कोतवाली शामली, कोतवाली देहात बहराइच, बिलसांडा, पीलीभीत, जहांगीपुर, बुलंदशहर, ग्वालटोली कानपुर, चितईपुर काशी, बेहटा गोकुल, हरदोई थाना शामिल है।

खराब प्रदर्शन करने वाले विभाग व प्राधिकरण:-

निराशाजनक प्रदर्शन करने वालों में 5 प्राधिकरण और 10 विभाग भी शामिल हैं। सूची के मुताबिक, मुरादाबाद, उन्नाव, मुजफ्फरनगर, सिद्धार्थनगर, कुशीनगर प्राधिकरण के VC का प्रदर्शन सबसे ज्यादा खराब रहा। वहीँ शासन स्तर पर खराब प्रदर्शन करने वाले 10 विभागों की सूची में आयुष, नागरिक उड्डयन, अल्पसंख्यक विभाग, कारागार विभाग, न्याय विभाग, खेल विभाग MSME, आबकारी विभाग, प्राविधिक शिक्षा विभाग, अवस्थापना एवं औद्योगिक विभाग का नाम शामिल किया गया है।