Zee-Sony का होगा विलय ,पुनीत गोयनका बनेंगे MD और CEO

271
zee sony merger
zee sony merger

जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज लिमिटेड के बोर्ड ने सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स इंडिया के साथ मर्जर को मंजूरी दे दी है. नई कंपनी में सोनी की 50.86 फीसदी हिस्सेदारी होगी. वहीं, ZEE के प्रमोटर ग्रुप एस्सेल के पास 3.99% हिस्सेदारी होगी. ZEE के शेयरहोल्डर्स के पास 45.15 फीसदी स्टेक होगा. नई कंपनी के 9 सदस्यीय बोर्ड में सोनी के पांच अधिकारी होंगे और पुनीत गोयनका अगले 5 साल के लिए कंपनी के MD और CEO होंगे. इस मर्जर के बाद कंपनी भारतीय शेयर बाजार में लिस्टेड होगी.इस मर्जर के तहत जी एंटरटेनमेंट और सोनी पिक्चर्स दोनों अपने-अपने लाइनर नेटवर्क, डिजिटल असेट, प्रोडक्शन कारोबार और प्रोग्राम लाइब्रेरी को एक साथ मिला देंगे.

डील का ऐलान 22 सितंबर को हुआ था हालांकि सितंबर की शुरुआत के साथ ही स्टॉक में बढ़त देखने को मिली. स्टॉक सितंबर की शुरुआत में 171 के स्तर पर था. आज स्टॉक 349 के स्तर पर पहुंच चुका है यानि इस दौरान शेयर में 100 प्रतिशत से ज्यादा की बढ़त रही है.

दोनों कंपनियों ने बाइंडिंग एग्रीमेंट पर साइन कर दिए हैं. बाइंडिंग एग्रीमेंट का मतलब है कि अब ZEE का मर्जर सिर्फ सोनी के साथ ही होगा. पहले 90 दिनों के लिए दोनों कंपनियों के बीच नॉन बाइडिंग एग्रीमेंट था. मतलब 90 दिनों तक दोनों पार्टियां अगर चाहती तो पीछे हट सकती थीं. लेकिन, 90 दिनों के नेगोशिएशन और बातचीत के बाद दोनों कंपनियां ने मर्जर को मंजूरी दे दी है. डील के अनुसार, सोनी 1.5 अरब डॉलर का निवेश करेगी और मर्ज की गई कंपनी में 50.86% हिस्सेदारी रखेगी.

इस डील से दोनों कंपनियों को फायदा होगा. दोनों कंपनियां एक-दूसरे के कंटेंट और डिजिटल प्लेटफॉर्म का एक्सेस कर सकेंगी. इसके साथ ही सोनी को भारत में उपस्थिति बढ़ाने का मौका मिलेगा. ZEE के जरिए सोनी को दुनियाभर में 130 करोड़ लोगों की व्यूअरशिप मिलेगी.