योगी के दिल्ली दौरे के बाद कयासों पर विराम, यूपी में नेतृत्व में बदलाव नहीं, कैबिनेट विस्तार संभव

568
Cm Yogi Adityanath

यूपी में कई दिनों से नेतृत्व में बदलाव की चर्चा चल रही थी, लेकिन राज्य के सीएम योगी आदित्यनाथ के दो दिन के दिल्ली दौरे ने अब चर्चाओं पर विराम लगाने का काम किया है। योगी ने दिल्ली में पीएम नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे.पी. नड्डा से मुलाकात की। इसके बाद देर शाम पीएम, जेपी नड्डा और अमित शाह के बीच भी मीटिंग हुई।

पार्टी सूत्रों का कहना है कि टॉप लीडरशिप ने संदेश दे दिया कि यूपी में कोई बदलाव नहीं हो रहा है। यूपी में खुलकर नाराजगी जता रहे पार्टी के लोगों को संदेश भी दे दिया गया है कि योगी की क्या पॉजिशन है। एक बीजेपी नेता ने कहा कि यूपी में कैबिनेट विस्तार हो सकता है। सूत्रों के मुताबिक, योगी ने पार्टी की सीनियर लीडरशिप को बताया कि कोविड संकट से निपटने के लिए उनकी सरकार ने क्या किया। बता दें कि योगी ने गुरुवार को अमित शाह से मुलाकात की थी। शुक्रवार को योगी राष्ट्रपति से भी मिले। 403 विधानसभा सीटों वाले यूपी में अगले साल के शुरुआत में चुनाव हैं।

चुनावों पर हुई चर्चा
सूत्रों के मुताबिक योगी की पीएम, नड्डा से मुलाकातों के दौरान विधानसभा चुनाव पर बात की गई और रणनीति को लेकर चर्चा हुई। चुनाव के लिहाज से राज्य के जाति समीकरण पर भी बात हुई। इन मीटिंग्स में चुनाव के लिए रणनीति का खाका तैयार किया गया और फीडबैक पर चर्चा हुई कि चुनाव को सबसे ज्यादा प्रभावित कौन से मुद्दे कर सकते हैं। बीजेपी के एक नेता के मुताबिक कुछ राज्यों में गुटबाजी और खुलकर किसी नेता के विरोध में बयानबाजी से पार्टी को नुकसान हुआ है और पार्टी यूपी में यह नहीं चाहती।