यूपी में उमस भरी गर्मी से मिली राहत, लखनऊ समेत कई जिलों में काले बादल और गरज के साथ झमाझम बारिश

    561

    पिछले कई दिनों से पड़ रही उमस भरी गर्मी के बाद गुरुवार सुबह राजधानी लखनऊ सहित उत्‍तर प्रदेश के कई जिलों में मौसम बदल गया। काले बादलों और गरज के साथ झमाझम बारिश ने लोगों को गर्मी से राहत दिलाई। तापमान में चार से पांच डिग्री सेल्सियस तक की गिरावट आई है।

    लखनऊ में सूर्योदय के साथ ही आसमान में काले बादल छा गए। मौसम सुहावना हो गया। थोड़ी देर बाद झमाझम बारिश होने लगी। लखनऊ के अलावा बरेली, पीलीभीत, लखीमपुर खीरी, सीतापुर, गोंडा, शाहजहांपुर सहित आसपास के जिलों में कहीं हल्‍की तो कहीं तेज बारिश हुई है। बरेली में गर्मी से पस्त लोगों के लिए गुरुवार का दिन राहत लेकर आया। सुबह से ही मौसम का मिजाज बदल गया। तेज ठंडी हवाओं साथ छाए घने बादलों ने मानसून का अहसास करा दिया। सुबह से ही रुक रुक कर बारिश हो रही है। घर के बाहर निकलने पर मौसम बेहद सुहाना है। घर के अंदर जरूर उमस लोगों को सता रही है। आज दिन में धूप निकलने की उम्मीद कम ही है। अगले तीन दिन प्री मानसूनी बारिश की पूरी सम्भावना है। मौसम विभाग ने 11 जून को आठ मिमी, 12 जून को 20 मिमी और 13 जून को 40 मिमी बारिश की सम्भावना जताई है।

    पीलीभीत में भी प्रचंड गर्मी से गुरुवार को बड़ी राहत मिली। बुधवार को 40 डिग्री पर पहुंचा तापमान गुरुवार को अचानक गिर गया। भोर में चार बजे तेज बारिश हुई। इससे बड़ी राहत मिली। भोर में तेज बारिश के बाद दिन में 9 बजे के बाद रिमझिम बारिश होने लगी। बेजुबान परिंदों को भी बारिश होने से बड़ी राहत हुई है। साथ ही खेती-किसानी को भी काफी लाभ मिला है। बारिश का पानी खेतों में अमृत बनकर बरसा। किसानों द्वारा खेतों में लगाई जा रही लागत से कुछ आराम मिला। यह बारिश गन्ना, धान और आम की फसल के लिए लाभदायक है।

    कब आएगा मानसून
    मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक जेपी गुप्त ने बताया कि दक्षिणी-पश्चिमी मानसून पश्चिम बंगाल और उड़ीसा में सक्रिय है अगले दो से तीन दिन में यह झारखण्ड, बिहार होते हुए पूर्वांचल के रास्ते यूपी में दाखिल हो सकता है। भारतीय मौसम विज्ञान केन्द्र की वेबसाइट पर भी अगले तीन दिन में पूर्वी यूपी में मानसून के आगमन का अनुमान जताया गया है। पिछले साल प्रदेश में मानसून 18 जून को सक्रिय हुआ था। इस बार प्रदेश में 12 जून को भी मानसून दाखिल हो सकता है। मौसम निदेशक के अनुसार प्रदेश में मानसून से पहले की बारिश का सिलसिला शुरू हो चुका है। बीते 24 घंटों के दौरान प्रदेश में कहीं हल्की तो कहीं भारी बारिश रिकार्ड की गयी। इस अवधि में राज्य में सबसे अधिक 13 सेंटीमीटर बारिश महाराजगंज के निचलौल में दर्ज की गई। इसके अलावा महाराजगंज मुख्यालय पर सात, महाराजगंज के त्रिमोहिनीघाट पर पांच, प्रतापगढ़ के पट्टी, गोण्डा, सलेमपुर में दो-दो सेण्टीमीटर बारिश दर्ज की गई।