US में कोरोना के ‘बूस्टर डोज’ को मिली हरी झंडी, कमजोर इम्यूनिटी वाले लोगों को दी जाएगी तीसरी खुराक

211
booster dose for 18 above

अमेरिका में कोरोना वैक्सीन की बूस्टर डोज लगाने की भी मंजूरी मिल गई है. यानी कि अब अमेरिका में कोरोना के हाई रिस्क मरीजों को वैक्सीन की तीसरी डोज भी दी जाएगी. मॉडर्ना और फाइजर वैक्सीन की तीसरी डोज को इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी मिली है. ये ऐलान यूएस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (FDA) ने किया है. हाई रिस्क मरीजों के ग्रुप में उन्हें रखा जाता है जो पहले से गंभीर बीमारियों से पीड़ित हैं और जिनकी इम्यूनिटी कमजोर है. मतलब जिन मरीजों का कोई ट्रांसप्लांट हुआ है या फिर वो कैंसर जैसी बीमात से पीड़ित हैं, उन्हें वैक्सीन की तीसरी डोज मिलेगी.

एफडीए कमीश्नर जेनेट वुडकॉक ने एक बयान में कहा, “देश ने कोविड महामारी की एक और लहर आ चुकी चुकी है. इससे लोगों को विशेष रूप से गंभीर बीमारी का खतरा है. एक्स्ट्रा डोज कमजोर इम्यूनिटी वाले लोगों के लिए है. जिन लोगों का पूरी तरह से वैक्सीनेशन हो गया है, वे सुरक्षित हैं और उन्हें इस समय कोविड वैक्सीन की अतिरिक्त खुराक की आवश्यकता नहीं है.”

अमेरिका के शीर्ष महामारी विशेषज्ञ डॉ फाउची ने हाल ही में कहा था कि वह उम्मीद करते हैं कि बूस्टर खुराक देने की सिफारिश जल्द आएगी. एक एक्स्ट्रा बूस्टर डोज को संघीय औषधि प्रशासन (एफडीए) द्वारा ही कोई मंजूरी दी जाएगी. फाउची ने कहा था, ‘‘एक ऐसा समय भी आएगा, जब हमें अतिरिक्त खुराक की जरूरत पड़ेगी क्योंकि किसी भी टीके से अनिश्चित मात्रा में सुरक्षा नहीं मिलने जा रही है, कम से कम मौजूदा श्रेणी के टीकों से तो नहीं.’’