उत्तर प्रदेश में जानलेवा बुखार: फिरोजाबाद में अब तक 111 मरीजों की मौत, वहीं मैनपुरी और मथुरा में भी स्तिथि ख़राब

278

आगरा मंडल में डेंगू और वायरल फीवर से स्थिति गंभीर होती जा रही है। फिरोजाबाद जिले में बुधवार को डेंगू-वायरल से पांच बच्चों समेत आठ लोगों की मौत हो गई। मथुरा में फरह ब्लॉक के गांव रहीमपुर में तीन वर्षीय बच्ची ने दम तोड़ दिया। मैनपुरी जिले में तीन मरीजों की जान चली गई है। 

फिरोजाबाद में सबसे ज्यादा स्थिति खराब है। यहां एक महीने में 111 मरीजों की मौत हो चुकी है। इनमें सबसे ज्यादा बच्चे हैं। बुधवार को रानी नगर निवासी यश (5) पुत्र रवि राठौर, सिमरन (15) पुत्री पुत्तन सिंह, सुमन (18) पुत्री राजेश यादव निवासी मोहल्ला जलेसर रोड मंगलम धर्मकांटा की मौत हो गई।  

झलकारी नगर निवासी काजल (20) पत्नी धर्मवीर, दिया अग्रवाल (17) पुत्री सौरभ अग्रवाल निवासी महाराजा अग्रसेन स्कूल के पास, ओमनगर निवासी सनम (9) पुत्री  सोबरन, टूंडला के गांव टीकरी में मनीष (17) पुत्री अशोक कुमार, नगला गोकुल में छह वर्षीय शिवांग पुत्र सुरेंद्र कुमार ने भी दम तोड़ दिया। 

मैनपुरी जिले में बुखार से रामप्रताप सिंह (65) निवासी गांव रठेरा,  पूजा (29) पत्नी सौरभ निवासी गांव खटिकपुर, सुग्रीव (65) निवासी मोहल्ला दरगाई, घिरोर की मौत हुई है। उधर, मथुरा में फरह ब्लॉक के गांव रहीमपुर निवासी तीन वर्षीय मासूम ईशू पुत्री अनिल की मौत हो गई। 

आगरा में डेंगू के दो और मरीज मिले हैं। इनसे एक कछपुरा और दूसरा नाऊ की सराय का है। यह दोनों ही बच्चे हैं। यह निजी अस्पताल में भर्ती हैं। अब तक आगरा में 12 मरीज डेंगू के मिल चुके हैं। दो दिन में डेंगू के 128 संदिग्ध मरीजों के नमूने जांच के लिए भेजे हैं।

जिला मलेरिया अधिकारी आरके दीक्षित ने बताया कि कछपुरा में 15 साल की किशोरी में डेंगू मिला है। दूसरा मरीज 11 साल का बच्चा है, जो नाऊ की सराय का रहने वाला है। इन दोनों को ही तीन-चार दिन से बुखार न टूटने पर निजी लैब में जांच कराई थी, जहां पॉजिटिव मिलने के बाद एलाइजा जांच में डेंगू की पुष्टि हुई है। अब आगरा में डेंगू के मरीजों की संख्या 12 हो गई है। बच्चों की संख्या सबसे अधिक है, आठ बच्चों में डेंगू पुष्ट हुआ है।