हेल्थ मिनिस्टर हर्षवर्धन और उनकी पत्नी ने ली कोरोना वैक्सीन की पहली डोज, फीस देकर लगवाया टीका

516

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन और उनकी पत्नी ने मंगलवार को ‘दिल्ली हार्ट एंड लंग इंस्टीट्यूट’ में कोविड-19 टीके की पहली खुराक ली। इसके लिए उन्होंने बकायदा वैक्सीन का शुल्क भी दिया।

कोविड-19 टीकाकरण अभियान का दूसरा चरण सोमवार, एक मार्च से शुरू हुआ। इसके तहत 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों और अन्य बीमारी से पीड़ित 45 से 59 वर्ष आयु वर्ग के लोगों को टीके की पहली खुराक दी जाएगी।

हर्षवर्धन की पत्नी नूतन गोयल ने पहले टीका लगवाया। उनके बाद हर्षवर्धन ने टीका लगवाया। मंत्री ने सोमवार को 60 वर्ष या उससे अधिक आयु के लोगों तथा अन्य बीमारियों से पीड़ित 45 और उससे अधिक आयु के लोगों से अपील की थी कि वे तत्काल टीका लगवाएं।

उन्होंने कहा था कि कोरोना वायरस रोधी टीकाकरण के कारण देश में अब तक किसी की भी मौत नहीं हुई है और अपील की है कि लोग टीके को लेकर संदेह न करें। हर्षवर्धन ने कहा था कि यदि टीका लेने के कुछ दिनों बाद किसी की मौत होती है, तो इसे टीकाकरण से नहीं जोड़ा जा सकता है क्योंकि ऐसे प्रत्येक मामले की वैज्ञानिक तरीके से जांच की जा रही है।