UK की स्टडी में दावा – वैक्सीन की दोनों डोज ले चुके लोगों में कोरोना संक्रमण का खतरा तीन गुना तक कम, 98 हजार लोगों पर किया गया शोध

    437

    देश में कोरोना से जंग जारी है. भारत में फिलहाल तीन तरह की कोविड वैक्सीन दी जा रही है. आने वाले कुछ महीनों में कई और वैक्सीन आने के बादक कोरोना के खिलाफ यह जंग और तेज हो जाएगी. इन सबके बीच एक अच्छी खबर सामने आई है. ब्रिटेन में हुए एक अध्ययन में यह बात सामने आई है कि कोरोना रोधी वैक्सीन के दोनों डोज लिये लोगों को संक्रमित होने का खतरा तीन गुना तक कम है.

    कोरोना संक्रमण को लेकर ब्रिटेन के सबसे बड़े अध्ययनों में से एक रियल टाइम असेसमेंट ऑफ कम्युनिटी ट्रांसमिशन स्टडी के मुताबिक देश में कोरोना संक्रमण पिछली REACT-1 रिपोर्ट के बाद से 0.15 प्रतिशत से 0.63 प्रतिशत तक चार गुना बढ़ गया है. ये 20 मई से 7 जून तक की अवधि के लिए था. हालांकि इसके नतीजों में 12 जुलाई से मामलों में कमी देखी जा रही है. इंपीरियल कॉलेज लंदन और इप्सोस मोरी द्वारा किए गए विश्लेषण में भाग लेने वाले 98, 000 से ज्यादा वॉलंटियर्स के जरिए यह पता चला कि वैक्सीन की दोनों खुराक ले चुके लोग वायरस को एक से दूसरे में बहुत कम पहुंचाते हैं.

    उधर, देश की बात करें तो केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है भारत में भर में अब तक कोरोना वायरस रोधी टीकों की 49 करोड़ से अधिक खुराक दी जा चुकी है. गुरुवार की शाम 7 बजे तक प्राप्त आंकड़ों के अनुसार आज 50.29 लाख से अधिक (50,29,573) खुराक दी गई. मंत्रालय ने बताया कि 18 से 44 साल उम्र वर्ग के 27,26,494 लाभान्वितों को गुरुवार को पहली खुराक दी गई, जबकि 4,81,823 लोगों को दूसरी खुराक दी गई.

    इसने कहा है कि टीकाकरण के तीसरे चरण की देशव्यापी शुरुआत के बाद से कुल मिलाकर 18 से 44 साल आयु वर्ग में 16,92,68,754 लोगों को पहली खुराक जबकि 1,07,72,537 लोगों को दूसरी खुराक दी जा चुकी है. देश के पांच राज्यों…मध्यप्रदेश, गुजरात, राजस्थान, महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश में 18 से 44 वर्ष आयु वर्ग में एक एक करोड़ से अधिक लोगों को टीका दिया जा चुका है.

    रिपोर्ट के अनुसार टीकाकरण के 202 वें दिन, पांच अगस्त को कुल 50,29,573 खुराक दी गई. इनमें से 37,13,231 लाभान्वितों को पहली खुराक जबकि 13,16,342 को दूसरी खुराक दी गयी.