प्रधामंत्री मोदी को CM उद्धव ठाकरे की चिट्ठी, जीएसटी रिटर्न में मोहलत और गरीबों को नकद सहायता देने की मंजूरी का आग्रह

351

कोरोना महामारी के बढ़ते खतरे को देखते हुए महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने पीएम नरेंद्र मोदी को एक खत लिखते हुए कुछ रियायतों की मांग की है. उद्धव ठाकरे ने खत में कहा है कि कोरोना के बढ़ते खतरों को देखते हुए जीएसटी रिटर्न फाइल करने के डेट को 3 महीने के लिए आगे बढ़ा दिया जाए, ताकि छोटे और मध्यम करदाताओं को सहूलियत हो सके. ठाकरे ने यह भी कहा है कि न केवल महाराष्ट्र, बल्कि पूरे देश में ऐसा करने की जरूरत है.

उद्धव ठाकरे ने यह भी मांग की है कि कोरोना को राष्ट्रीय आपदा घोषित किया जाए, ताकि स्टेट डिजास्टर रेस्पॉन्स फण्ड (SDRF) का इस्तेमाल किया जा सके. इसके अलावा SDRF की पहली क़िस्त केंद्र सरकार तत्काल जारी करे. मिनी लॉकडाउन की वकालत करते हुए उन्होंने यह भी मांग की है कि राज्यों को अंत्योदय अन्न योजना के अंतर्गत हर वयस्क को रोजाना 100/- और बच्चों को 60 रुपये देने का अधिकार मिलना चाहिए.

उद्धव ठाकरे ने पीएम मोदी को लिखे खत में कहा है कि कई लघु उद्यमियों, स्टार्टअप्स, बिजनेसमैन ने सरकार की कई योजनाओं के तहत लोन ले रखा है. अब कोरोना को देखते हुए इनको रियायत देने की जरूरत है. कोरोना के खतरे बढ़ने के साथ ही इनकी मुश्किलें भी बढ़ी हैं. सरकार को चाहिए कि वह इन्हें राहत देने का ऐलान करे.

उद्धव ठाकरे ने सरकार से अनुरोध किया है कि बैंक नए वित्तीय वर्ष के पहले 3 महीने की क़िस्त और ब्याज वसूल न करें. इन उद्यमियों के लिए मुश्किल समय में यह सहायता होगी.

बता दें कि महाराष्ट्र में एक दिन पहले बुधवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 58,952 नये मामले सामने आये, जबकि 278 और संक्रमितों की मौत हो जाने से कुल मृतक संख्या बढ़कर 58,804 पहुंच गई. राज्य स्वास्थ्य विभाग ने यह जानकारी दी.