संयुक्त राष्ट्र में भारत ने कहा – जातिवाद मानवता की भावना का विरोधी है

232

डरबन घोषणा को अपनाने की 20वीं वर्षगांठ मनाने के लिए यूएनजीए उच्च स्तरीय बैठक में संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि टीएस तिरुमूर्ति ने कहा कि जातिवाद मानवता की भावना का विरोधी है। 

आगे टीएस तिरुमूर्ति ने कहा कि उपनिवेशवाद और नस्लीय भेदभाव का विरोध करने के लिए, महात्मा गांधी ने सत्याग्रह का हथियार अपनाया, जो कि सत्य और अहिंसा है। हथियार के रूप में सत्य और अहिंसा के साथ, उन्होंने भारत को स्वतंत्रता की ओर अग्रसर किया।