ट्रैक्टर रैली हिंसा : किसान नेता सुखदेव के इशारे पर हुआ था बवाल, आईएससी ने सुखदेव को किया गिरफ्तार, पूछताछ में हुए कई चौंकाने वाले खुलासे

331

लाल किले पर हुई हिंसा के आरोपी किसान नेता सुखदेव सिंह ने ही आरोपी जुगराज को झंडा फहराने और तोड़फोड़ के लिए कहा था। पंजाब के अभिनेता दीप सिद्धू और जुगराज सिंह के साथ सुखदेव की लाल किले पर ही मुलाकात हुई थी। जुगराज सेवादार है और वह गुरुद्वारे में झंडा फहराने के लिए पोल पर चढ़ता रहा है। अभ्यास होने के कारण वह लाल किले के पोल पर तुरंत चढ़ गया। ये खुलासा गिरफ्तार 50 हजार रुपये के इनामी सुखदेव ने किया है।

अपराध शाखा के एक अधिकारी ने बताया कि लाल किले पर हुई हिंसा के बाद करनाल निवासी सुखदेव सिंह (65) सिंघु बॉर्डर पर धरनास्थल पर ही छिपा हुआ था। उसकी रोज की लोकेशन सिंघु बॉर्डर पर आ रही थी। मगर दिल्ली पुलिस ने उसे सिंघु बॉर्डर से नहीं पकड़ा। सुखदेव सिंह ने छह फरवरी को चक्का जाम में हिस्सा लिया। छह फरवरी को ही वह अपनी बेटी की ससुराल कुरूक्षेत्र के पास पीपली गांव चला गया। उसे पता था कि पुलिस ने उसे पर इनाम घोषित कर दिया है और वह अपने घर जाएगा तो पुलिस उसे पकड़ लेगी। सात फरवरी को आरोपी चंडीगढ़ वकील से मिलने चला गया।

उसे चंडीगढ़ हाईकोर्ट में याचिका दायर करनी थी कि हरियाणा सरकार ने सिंघु बॉर्डर पर धरने पर बैठे किसानों की बिजली व पानी काट दिया है। वह हाईकोर्ट पहुंच पता उससे पहले ही दिल्ली पुलिस ने औद्योगिक क्षेत्र, सेक्टर-तीन, चंडीगढ़ में रेडलाइट से उसे पकड़ लिया। दिल्ली पुलिस ने इसकी सूचना औद्योगिक एरिया थाना पुलिस को लिखित में दी है। सुखदेव सिंह ने लाल किले पर भीड़ को लीड़ किया था और उसने ही तोड़फोड़ करने के लिए भीड़ को उकसाया था। सुखदेव सिंह का कहना है कि अगर वह तोड़फोड़ नहीं करेंगे तो सरकार कैसे झुकेगी।

सुखदेव सिंह ने खुलासा किया है कि हिंसा वाले दिन उसने लाल किले पर भीड़ को लीड किया था। उसने ही भीड़ को तोड़फोड़ करने व फंडा फहराने के लिए उकसाया था। उसने जुगराज को झंडा फहराने को कहा था। सुखदेव सिंह अपने साथियों के साथ सिंघु बॉर्डर से लाल किले पहुंचा था। 

अपराध शाखा के पुलिस अधिकारियों के अनुसार तरनतारन निवासी जुगराज इलाके में गुरुद्वारे में सेवादार है। पूरे इलाके में पांच गुरुद्वारे हैं। ये पांचों गुरुद्वारे में सेवादार है। वह पोल पर चंढकर गुरुद्वारे में झंडा लगाने आदि का काम करता है। इस कारण उसे पोल पर चढने का अभ्यास है। शुरूआती जांच के बाद बताया जा रहा है कि जुगराज सिंह के खिलाफ कोई मामला दर्ज नहीं है। दिल्ली पुलिस ने जुगराज सिंह की गिरफ्तारी पर एक लाख रुपये का इनाम रखा हुआ है। 

अपराध शाखा की चाणक्यपुरी में स्थित इंटरस्टेट सेल (आईएससी) में तैनात इंस्पेक्टर नीरज चौधरी की टीम ने सुखदेव सिंह को चंडीगढ़ से गिरफ्तार किया है। जबकि लाल किले हिंसा मामले की जांच कोतवाली में स्थित इंस्पेक्टर पंकज अरोड़ा की टीम कर रही है। सुखदेव सिंह को इंस्पेक्टर पंकज अरोड़ा की टीम को रविवार को ही सौंप दिया गया था।