टूलकिट केस में गिरफ्तार दिशा रवि के समर्थन में उतरीं ग्रेटा थनबर्ग, कहा- शांतिपूर्ण प्रदर्शन मानवाधिकार और लोकतंत्र का हिस्सा

333

स्वीडन की क्लाइमेट एक्टिविस्ट ग्रेटा थनबर्ग ने भारत में टूल किट केस में गिरफ्तार 22 साल की दिशा रवि का समर्थन किया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा है कि अभिव्यक्ति की आजादी और शांतिपूर्ण प्रदर्शन सभी का मानवाधिकार है। इस मानवाधिकार पर कोई बहस नहीं की जा सकती है। इसे लोकतंत्र का मूल हिस्सा होना चाहिए। इसके साथ ही ग्रेटा थनबर्ग ने स्टैंड विद दिशा रवि का हैशटैग भी लगाया।

जेल में बंद दिशा रवि के समर्थन में उतरीं ग्रेटा थनबर्ग ने संगठन ‘फ्राइडेज फॉर फ्यूचर इंडिया’ के उस ट्वीट को कोट किया जिसमें लिखा गया है कि ‘फ्राइडेज फॉर फ्यूचर इंडिया क्लाइमेट जस्टिस के लिए वैश्विक आंदोलन का एक हिस्सा है। हम छात्रों के एक समूह से मिलकर बने हैं जो केवल एक उम्‍मीद के साथ एक ऐसे भविष्य बनाने की दिशा में काम कर रहा है जो जीवन जीने के लायक हो।’ एक ट्वीट में कहा गया है कि हम सभी का उद्देश्य जलवायु संकट के बारे में बातचीत शुरू करना है।

उधर कृषि कानूनों के विरोध के नाम पर कथित तौर पर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत को बदनाम करने की साजिश रचने की आरोपित दिशा रवि को दिल्‍ली पुलिस ने शुक्रवार को नई दिल्‍ली स्थित पटियाला हाउस की एक अदालत में पेश किया। पुलिस ने अदालत को बताया कि दिशा पूछताछ में सहयोग नहीं कर रही है। वह घटनाक्रम के लिए सह-आरोपित निकिता जैकब और शांतनु मुलुक को जिम्मेदार बता रही है। पुलिस ने अभी और पूछताछ की जरूरत बताई जिस पर अदालत ने दिशा को तीन दिन और पुलिस रिमांड में रखने की मंजूरी दे दी।

उल्‍लेखनीय है कि बीते दिनों पॉप सिंगर रिहाना ने राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में चल रहे आंदोलन पर एक खबर टैग करते हुए इंटरनेट मीडिया साइट ट्विटर पर लिखा कि हम इस पर क्यों नहीं बात रहे हैं। इसके कुछ देर बाद स्वीडिश नागरिक ग्रेटा थनबर्ग ने लिखा कि मैं भारत में चल रहे किसान आंदोलन का समर्थन करती हूं। बाद में कुछ और ट्वीट कर ग्रेटा ने आंदोलन को व्यापक बनाने के उपाय बताते हुए टूल किट जारी किए। इसके बाद कुछ अन्य हस्तियों ने भी आंदोलन के समर्थन में बयान दिए थे।