पार्टी और दोनों भाइयों के बीच चल रहे विवाद के बीच – तेजस्वी यादव हुए दिल्ली रवाना, बड़े भाई तेजप्रताप को याद दिलाए संस्कार

475

बिहार में आरजेडी में इस समय एक नया सियासी ड्रामा शुरू हो गया है. आरडेडी के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह (Jagdanand Singh) और तेजप्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) के बीच चल रहा विवाद खत्म होने की बजाय ज्यादा बढ़ गया है. तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) अपने सलाहकार संजय यादव के साथ अचानक दिल्ली (Delhi) रवाना हो गए हैं. दरअसल शुक्रवार सुबह ही तेजप्रताप यादव और संजय यादव के बीच जमकर विवाद हुआ था.जिसके बाद तेजस्वी का ये दिल्ली दौरा बहुत महत्वपूर्ण माना जा रहा है.

कहा जा रहा है कि अब तेजस्वी यादव जगदानंद सिंह और संजय यादव के समर्थन में उतरे आए हैं. तेजप्रताप को नसीहत देते हुए तेजस्वी ने कहा कि माता-पिता ने सबको संस्कार दिया है. बड़ों का सम्मान करना चाहिए.

‘माता-पिता संस्कार के साथ अनुशाषित रहने के लिए शिक्षा दी ‘
तेजस्वी यादव ने अपने भाई तेजप्रताप यादव के रवैया को लेकर बयान दिया है कि माता-पिता ने संस्कार के साथ अनुशासित रहने की भी शिक्षा दी है. बड़े भाई हैं तो वो अलग बात है. उन्होंने कहा कि तेजप्रताप आए थे मुलाकात भी हुई थी. उस समय सभी विपक्षी पार्टियों की सर्वदलीय बैठक चल रही थी. नाराजगी तो आपस में चलती रहती है, लेकिन अनुशासन में तो सबको रहना ही चाहिए.

बेटी रोहिणी ने भी भाई को सिखाया अनुशासन का पाठ
पार्टी और दोनों भाइयों के बीच चल रहे विवाद के बीच लालू प्रसाद यादव की बेटी रोहिणी आचार्य ने सोशल मीडिया पर बातों ही बातों में भाई तेजप्रताप को अनुशासन का पाठ पढ़ाया है. उन्होंने लिखा है कि सफलता की मंजिल पानी है, अनुशासन और संयम को अपनाना है. रोहिणी ने कहा कि अनुशासन जीवन की वो कुंजी है जिसके बिना सफलता अधूरी है

जगदानंद ने दिया था बड़ा बयान
जगदानंद ने बिना किसी का नाम लिए बिना कहा कि व्यक्ति अपनी मर्यादा का स्वयं रक्षक होता है, कोई लक्षमण रेखा पार ना करें. जगदानंद सिंह ने आगे कहा, ‘जो भी बात हो रही वो कोई बंद कमरे में तो नहीं हो रही तो राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद जी को सब कुछ पता है. मैंने कहा था कि तेजप्रताव पार्टी के संवैधानिक ढांचे में नहीं है है. वो कोर कमिटी के मेंबर नहीं है.’