पंजशीर में अमरुल्ला सालेह के भाई की हत्या के बाद लाश को दफनाने तक नहीं दे रहा तालिबान, बोला – ‘इसके शरीर को सड़ने देना चाहिए’

225

अफगानिस्तान में तालिबान का खूनी खेल अभी भी जारी है. तालिबान ने अब अफगानिस्तान के पूर्व उप-राष्ट्रपति अमरूल्ला सालेह के बड़े भाई की तालिबान की कर दी. अमरुल्ला सालेह के भतीजे ने इसकी पुष्टि की है. अमरुल्ला सालेह के भाई की हत्या की खबर ऐसे वक्त पर आई है जब तालिबान ने पंजशीर को पूरी तरह से अपने कब्जे में ले लिया है, जो अफगानिस्तान का आखिरी प्रांत था, जहां पर उसके खिलाफ विद्रोह किया जा रहा था.

रॉयटर्स के मुताबिक, एबदुल्ला सालेह ने एक टेक्स्ट मैसेज के जरिए कहा- उसने मेरे अंकल की हत्या कर दी. “उन्होंने कल उसे मार डाला और हमें उसे दफनाने नहीं देंगे. वे कहते रहे कि उसका शरीर सड़ जाना चाहिए.” अमरुल्लाह के बारे में बताया जा रहा है कि वह इस वक्त ताजिकिस्तान में हैं.

गौरतलब है कि इससे पहले तालिबान ने पंजशीर पर पूरी तरह से अपना कब्जा होने का दावा किया था. लेकिन नेशनल रेसिस्टेंस फ्रंट ने तालिबान के इस दावे को खारिज किया था. स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स में यह दावा इसलिए किया जा रहा है क्योंकि तालिबान के एक लड़ाके की उसी जगह की एक तस्वीर सामने आई है, जहां से सालेह ने एक वीडियो साझा किया था. रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है कि तालिबान ने सालेह के घर पर कब्जा कर लिया है.

कुछ रिपोर्ट्स में ऐसा कहा गया है कि तालिबान के खिलाफ विरोधी गुट के नेता अहमद मसूद और अमरूल्ला सालेह तालिबान के कब्जे के बाद पंजशीर से ताजिकिस्तान भाग चुके हैं. हालांकि, अफगानिस्तान सरकार के ताजिकिस्तान में अपदस्थ राजदूत ने इस दावे को खारिज करते हुए कहा कि वे देश छोड़कर नहीं भागे हैं.

गौरतलब है कि पिछले महीने अफगानिस्तान पर कब्जा करने वाले तालिबान ने यह दावा किया था कि उसने आखिरी प्रांत पंजशीर घाटी पर भी अपना कब्जा कर लिया है. हालांकि, उसके खिलाफ लड़ाई लड़ रहे रिसिस्टेंस फ्रंट अपनी हार नहीं मानी थी.