महिलाओं के बाद पुरुषों की बारी – तालिबान ने नाइयों को शेविंग न करने का दिया आदेश, उल्लंघन करने पर मिलेगा दंड

422

काबुल पर कब्जा किए जाने के बाद तालिबान एक एक कर कई फरमान जारी कर रहा है. कई बार कुछ फरमान लोगों के लिए जंजाल भी बन रहे हैं. तालिबान समय के साथ अपना रंग दिखा रहा है. इस बार अफगानिस्तान में बाल काटने वाली दुकानों को शेविंग न करने का आदेश दिया गया है. तालिबान ने दक्षिणी अफगानिस्तान के प्रांत में नाईयों की दुकान पर दाढ़ी बनाने या दाढ़ी कटवाने पर प्रतिबंध लगा दिया है. तालिबान का कहना है कि यह इस्लामी कानून व शरिया के अनुरूप है. बता दें कि तालिबान में यह आदेश हेलमंद प्रांत की राजधानी लश्कर गाह में जारी किया है. बता दें कि इस फैसले के सामने आने के बाद लोगों को काफी निराशा हो रही है.

बता दें कि इससे पहले जब तालिबान का शासन अफगानिस्तान पर था तब भी लोगों को काफी दिक्कतों व कट्टर कानूनों का पालन करना पड़ता था. वहीं 15 अगस्त से फिर से तालीबानी शासन के वापस आने के बाद लोगों का हाल कुछ ऐसा ही है. बता दें कि बीते दिनों तालिबानियों ने चार लोगों को सरेआम हेरात में चौराहे पर मारकर लटका दिया था.

तालिबान ने अपने नए आदेश में कहा है कि यदि कोई उसके नियमों का पालन नहीं करेगा तो उसे सजा दी जाएगी. वहीं लोगों के पास शिकायत का कोई अधिकार भी नहीं होगा. हालांकि यह स्पष्ट नहीं है कि अगर वे शेविंग या ट्रिमिंग नियम का पालन नहीं करते हैं तो नाईयों को क्या दंड का सामना करना होगा या नहीं. पुरुषों को यहां दाढ़ी बढ़ाने की सलाह दी गई है.

बता दें कि साल 2001 में अमेरिकी फौज के अफगानिस्तान में एंट्री के बाद से लोग दाढ़ी मुंडाकर साफ सुथरे तरीके से रहने लगे थे. लेकिन तालिबान के नए आदेश के बाद फिर से लोगों को दाढ़ी बढ़ानी होगी. वहीं अगर कोई बाल कटवाता है तो उसे 40-45 दिनों के बाद वापस आएगा. दुकानदारों का कहना है कि इससे उनका काम काफी प्रभावित होगा.