स्वामी प्रसाद का विरोध, गाड़ी पर फेंकी गई स्याही, भाजपा नेता ने ली जिम्मेदारी..

124

सपा एमएलसी स्वामी प्रसाद मौर्य का रामचरितमानस को लेकर दिया गया बयान लोगों को रास नहीं आ रहा है, नतीजतन वाराणसी में रविवार को सपा नेता स्वामी प्रसाद मौर्य को विरोध का सामना करना पड़ा। दो दिवसीय दौरे पर वाराणसी आए स्वामी प्रसाद के काफिले पर स्याही और काले कपड़े फेंके गए। इस पूरे मामले में अभी तक पुलिस ने किसी तरह की कानूनी कार्रवाई नहीं की है।

काफिले पर फेंकी काली स्याही:-

दरअसल, रविवार सुबह करीब 11 बजे मौर्य का काफिला सोनभद्र के लिए शहर के पांडेयपुर इलाके से निकल रहा था। इसी दौरान रामनगर क्षेत्र में टेंगरा मोड़ के पास कुछ लड़के फूल-माला लेकर खड़े थे। उनको कार्यकर्ता समझ कर जब स्वामी का वाहन रुका, तो माला पहनाने की जगह लड़कों ने उन पर स्याही फेंक दी।

बताया जा रहा है वहां मौजूद लड़के भाजपा के कार्यकर्ता हैं। उन्होंने काफिले पर न केवल काली स्याही फेंकी, बल्कि काले कपड़े भी फेंके और लगातार हर-हर महादेव और स्वामी प्रसाद के खिलाफ नारेबाजी की। हालांकि, स्याही स्वामी प्रसाद के बजाय उनकी कार पर पड़ी। पूरे विरोध के दौरान स्वामी प्रसाद की सुरक्षा में लगे सुरक्षाकर्मियो और पुलिस कर्मियों ने तुरंत मोर्चा संभाल लिया और प्रदर्शनकारियों को धक्का देकर रास्ते से हटाया, इस दौरान पुलिस की लड़कों से हल्की झड़प भी हुई। वहीं, विरोध करने वाले ने खुद को भाजपा नेता दीपक सिंह राजवीर बताते हुए कहा कि उसने ही स्वामी प्रसाद मौर्य के काफिले पर पर काली स्याही और काला कपड़ा फेंक कर विरोध जताया है।