न लॉकडाउन-न क्वारंटीन: कोरोना वायरस के साथ जीने को तैयार है दक्षिण अफ्रीका, बनाया नया प्लान

242
corona outbreak in china
corona outbreak in china

एंटीबॉडी की उपस्थिति अंतर्निहित टी-सेल प्रतिरक्षा के लिए एक सुरक्षा कवच है, जो गंभीर संक्रमण के जोखिम को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। टी-सेल प्रतिरक्षा कम से कम अगले 6-12 महीनों के लिए बने रहना चाहिए। इसके लिए उच्च जोखिम वाले समूहों के लिए बूस्टर खुराक सहित टीकों की अधिक मात्रा सुनिश्चित करने के अभियान को जारी रखने की आवश्यकता है।

हाथ धोने और सतही थर्मल स्क्रीनिंग में ढील देने की जरूरत: गैर-औषधीय हस्तक्षेपों में भी धीरे-धीरे ढील देने की गुंजाइश है। विशेष रूप से हाथ की स्वच्छता और सतही थर्मल स्क्रीनिंग को समाप्त कर दिया जाना चाहिए। बाहरी खेल आयोजनों में उपस्थिति की अनुमति न देने का कोई कारण नहीं है। साथ ही सरकार को खराब हवादार इनडोर स्थानों में पर्याप्त वेंटिलेशन सुनिश्चित करने पर ध्यान केंद्रित करना जारी रखना चाहिए।

अस्पताल में भर्ती होने से बचाने का लक्ष्य: सरकार का लक्ष्य अस्पताल में भर्ती होने से बचाने और मृत्यु को कम करना है। दक्षिण अफ्रीका में ओमीक्रोन लहर में मृत्यु दर डेल्टा की तुलना में लगभग दसवां हिस्सा होने की राह पर है। इसका मतलब है कि यह संभवतः मौसमी इन्फ्लूएंजा प्री-कोविड से होने वाली मौतों (प्रति वर्ष 10,000 से 11,000) के बराबर है। इस मृत्यु दर को अन्य रोकी जा सकने वाली मौतों के सापेक्ष भी माना जाना चाहिए। टीबी एक उदाहरण है, जिसके कारण 2019 में दक्षिण अफ्रीका में 58,000 लोगों की मौत होने का अनुमान है।

टीकाकरण पर जोर: यह कहना असंभव है कि समय के साथ भविष्य के वेरिएंट की विशेषताएं क्या होंगी। लेकिन, दक्षिण अफ्रीका में ओमीक्रोन वेरिएंट फैलने के दौरान प्राप्त अनुभव से सीख ले सकते हैं। विशेष रूप से यदि टीकाकरण अभियान 90 फीसदी तक बढ़ाया जाय (विशेष रूप से 50 वर्ष आयु वर्ग में) तो संक्रमण को कम करने में बहुत मदद मिलेगी।