‘Shame on Putin’ के नारे के साथ यूक्रेन युद्ध के खिलाफ सड़कों पर उतरे रूसी लोग, 56 शहरों में भारी विरोध प्रदर्शन

318
russian citizens protest against putin

यूक्रेन युद्ध के खिलाफ रूस में हजारों लोग अपनी ही सरकार के खिलाफ सड़कों पर उतर रहे हैं. यहां कम से कम 56 शहरों में भारी विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं. पुलिस ने रविवार को 4300 और लोगों को हिरासत में लिया है. लोगों ने ‘लड़ाई को ना कहें’ और ‘शर्म करो पुतिन’ के नारे लगाए. रूस के गृह मंत्रालय ने इससे पहले जानकारी दी थी कि पुलिस ने 3500 लोगों को गिरफ्तार किया है. इनमें 1700 को मॉस्को, 750 को सेंट पीटर्सबर्ग और 1061 को दूसरे शहरों से पकड़ा गया है.

मंत्रालय ने कहा कि 5200 लोगों ने प्रदर्शनों में हिस्सा लिया था. ओवीडी-इन्फो प्रोटेस्ट मॉनिटरिंग ग्रुप का कहना है कि उसके मुताबिक 56 अलग-अलग शहरों में कम से कम 4366 लोगों को हिरासत में लिया गया है. यूक्रेन पर आक्रमण के खिलाफ अपना गुस्सा दिखाने के लिए रूस के लोग विभिन्न तरीके अपना रहे हैं. कुछ लोगों ने अपना पासपोर्ट जला दिया. अन्य लोगों ने यूक्रेन के झंडे लहराते हुए युद्ध और रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के खिलाफ नारे लगाए हैं.

सर्बिया में रहने वाले रूसी नागरिकों का एक समूह रविवार को उन कई लोगों में शामिल था जो ठंड के मौसम के बावजूद यूक्रेन के समर्थन में और युद्ध के खिलाफ मध्य बेलग्राद में एकत्रित हुए थे. इस युद्ध में पिछले 11 दिनों के दौरान कई लोगों की मौत हो गई है और 15 लाख लोगों को अपना घर छोड़ना पड़ा है. व्लादिमीर नेसिमोव ने अपना पासपोर्ट जलाने के बाद कहा, ‘यूक्रेन और दुनिया में रूस जो कर रहा है, उससे मेरा कोई लेना-देना नहीं है. मैं उस चीज के लिए कोई नैतिक या भौतिक जिम्मेदारी नहीं लेना चाहता जो मुझ पर निर्भर नहीं है. मैं उस देश का नागरिक नहीं रहना चाहता.’


नेसिमोव और उनकी पत्नी एवेलिना नेसिमोवा ने रविवार की मीटिंग में भाग लेने के लिए पश्चिमी सर्बियाई शहर लोज्निका से बेलग्राद की यात्रा की, जिसमें सर्बिया के शांति कार्यकर्ताओं और सर्बिया में रूसियों ने भाग लिया. एवेलिना नेसिमोवा ने कहा कि क्रीमिया पर रूसी आक्रमण के बाद, वे 2014 में वापस सर्बिया में रहने के लिए मॉस्को से निकल गए थे. उन्होंने कहा, ‘हम उस देश में नहीं रहना चाहते जहां पुतिन राष्ट्रपति हैं. हम शर्मिंदा है.’

नेसिमोव की यह कार्रवाई स्कॉटलैंड के एडिनबर्ग में यूक्रेन के लोगों के लिए एक रैली के दौरान एक रूसी महिला द्वारा अपना पासपोर्ट जलाने के कुछ दिनों बाद आई है. रविवार की रैली में रूस के लोग दृढ़ता से युद्ध के खिलाफ थे, सर्बिया में कई लोग पुतिन और उनके आक्रमण का समर्थन करते हैं, जो नाटो और पश्चिम की रूस विरोधी नीतियों को संघर्ष के लिए जिम्मेदार मानते हैं. सैकड़ों दक्षिण पंथियों ने पिछले हफ्ते यूरोप में पुतिन के समर्थन के एक प्रदर्शन में बेलग्राद में मार्च किया, जबकि कई युवकों ने भी रविवार को शांति रैली के दौरान रूस समर्थक नारे लगाए.