ट्विटर इंडिया के दफ्तरों पर छापेमारी पर सियासी घमासान तेज, अखिलेश बोले- ‘यह भाजपा सरकार की गिरती हुई वैश्विक छवि को और नीचे गिरायेगा’

418
Akhilesh yadav
Akhilesh yadav

टूल किट विवाद के बाद सोमवार की शाम ट्विटर के दफ्तरों पर दिल्ली पुलिस की छापेमारी से सियासी घमासान तेज हो गया है। कांग्रेस और समाजवादी पार्टी ने करारा वार किया है। सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने कहा कि यह छापेमारी भाजपा सरकार की गिरती हुई वैश्विक छवि को और नीचे गिरायेगा। ये एक अलोकतांत्रिक व घोर निंदनीय कृत्य है। कांग्रस ने भी छापेमारी को लेकर भाजपा पर हमला किया है। कांग्रेस ने इसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म को धमकाने की कार्रवाई बताया।

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल की टीमों ने राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली और गुरुग्राम स्थित ट्विटर इंडिया के दफ्तर पहुंची। टीम के अधिकारियों ने टूलकिट मामले में ट्विटर के दफ्तरों पर छापेमारी की। ये छापेमारी दिल्ली के लाडो सराय और गुरुग्राम में स्थित दफ्तरों में हुई। इससे पहले दिल्ली पुलिस ने दिन में ट्विटर को नोटिस भी जारी किया था।

अखिलेश ने छापेमारी के बाद भाजपा पर हमला बोलते हुए ट्वीट किया। अखिलेशन ने लिखा कि ट्विटर के दिल्ली व गुरुग्राम के ऑफिस पर छापा मरवाना भाजपा सरकार की गिरती हुई वैश्विक छवि को और नीचे गिरायेगा। ये एक अलोकतांत्रिक व घोर निंदनीय कृत्य है। भाजपाई अपने ही बिछाये झूठ के जाल में फंस गये हैं। ये भूल गये हर कोई दाना नहीं चुगता। इस बार बहेलिए को चिड़िया ले उड़ी।

ट्विटर को धमका रही है सरकार: कांग्रेस
वहीं कांग्रेस ने छापेमारी को ट्विटर को धमकाने की कोशिश करार देते हुए कहा कि सोशल मीडिया की आवाज दबाने का प्रयास सफल नहीं होगा। पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने यह दावा भी किया कि भाजपा नेताओं के ‘फर्जीवाड़े का खुलासा होने के बाद सरकार और सत्तारूढ़ पार्टी दिल्ली पुलिस के पीछे खड़े हो गए हैं। उन्होंने कहा कि फर्जीवाड़े और फर्जी कागजों के जरिए देश को भ्रमित करने की भाजपा की साजिश की परतें रोजाना खुलती जा रही हैं।

सुरजेवाला के अनुसार ने कहा कि भाजपा नेताओं और केंद्र सरकार के कई मंत्रियों ने फर्जी टूलकिट का ढोल पीटा। इसके बाद पुलिस में मामला दर्ज कराया गया और स्वतंत्र मीडिया संस्थान की पड़ताल में इस टूलकिट को फर्जी करार दिया गया। ट्विटर ने भाजपा के इस दावे को मैनिपुलुटेड मीडिया (छेड़छाड़ किया हुआ) करार दिया। इससे सरकार छटपटा गई।