भारतीय रेलवे ने किराया बढ़ाने की खबरों का किया खंडन, दिया अपना स्पष्टीकरण

481

कोरोना महामारी के बीच भारतीय रेलवे ट्रेनों को चलाकर लोगों की यात्रा को सुविधाजनक बना रहा है। लेकिन वहीं अब त्योहार के समय मीडिया में किराया के बढ़ने संबंधित खबरों के आने से आम लोगों में खास नाराजगी है। अब इस पर रेलवे ने सफाई दी है। रेलवे ने ट्रेनों का किराया बढ़ाने की खबरों का सिरे से खंडन किया है।

रेलवे ने कहा  कि फेस्टिव सीजन और अन्य डिमांड वाले सीजन में चलने वाली स्पेशल ट्रेनों का किराया आमतौर पर सामान्य ट्रेनों से अधिक ही होता है। गौरतलब है कि कोरोना के कारण अनलॉक के दौरान सीमित संख्या में ट्रेनें चल रही हैं और इस दौरान रेलवे ने त्योहारों को देखते हुए कुछ स्पेशल और क्लोन ट्रेनें चला रहा है। लेकिन रेलवे इन ट्रेनों में नियमित ट्रेनों की तुलना अधिक किराया ले रहा है।

वहीं, कांग्रेस ने त्योहारों के लिए रेलवे की ओर से चलाई गईं 392 स्पेशल ट्रेन के बढ़े किराये को तुरंत वापस लेने की मांग की है। पार्टी प्रवक्ता गौरव वल्लभ का कहना है कि सरकार दुर्गा पूजा, दिवाली और छठ पर विशेष ट्रेन की सुविधा के नाम पर लूट रही है। विशेष ट्रेनों में  35-40 फीसदी अधिक किराया वसूला जा रहा है। उन्होंने कहा कि देश में करोड़ों लोगों की नौकरी चली गई या वेतन में कटौती हो गई, ऐसे में त्योहारों पर घर जाने वालों को छूट देने की जगह सरकार उनसे ज्यादा रकम वसूल रही है।