श्रीनगर में राहुल गांधी बोले – हम जम्मू-कश्मीर के लिए पूर्ण राज्य का दर्जा और निष्पक्ष चुनाव की मांग करते हैं

739
Rahul Gandhi

दो दिवसीय दौरे पर श्रीनगर पहुंचे राहुल गांधी ने मंगलवार सुबह खीर भवानी माता के दर्शन किए। इसके बाद राहुल डल झील किनारे स्थित हजरतबल दरगाह पहुंचे। वहीं एमए रोड श्रीनगर में नवनिर्मित कांग्रेस भवन का उद्घाटन करने के बाद राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि मैं केंद्र सरकार की नीतियों के खिलाफ लड़ता रहूंगा। 

राहुल ने प्रदेश की जनता से कहा कि मैं भले ही यहां (जम्मू-कश्मीर) नहीं रहता, लेकिन मैं आप लोगों को समझता हूं। मेरे पुरखों को झेलम से पानी जरूर मिला होगा, आपके रीति-रिवाज और आपकी संस्कृति भी मेरे साथ है। मुझे लगता है कि जब मैं कश्मीर आता हूं तो अपने घर आ जाता हूं। इस दौरान राहुल ने लोगों से कहा कि आप जो प्यार से हासिल कर सकते हैं, वह नफरत से हासिल नहीं किया जा सकता। 

राहुल गांधी ने कहा कि वर्तमान सरकार द्वारा भारत में सभी संस्थानों पर हमले हो रहे हैं, लोकतांत्रिक संविधान पर भी हमला हो रहा है। जम्मू-कश्मीर पर सीधा हमला हो रहा है जबकि बाकी देश परोक्ष रूप से उसी हमले की चपेट में है। जब हम सरकार में थे तो देश के बाकी हिस्सों के साथ कश्मीर के लोगों को भी साथ लाए थे। हमने प्यार से सब कुछ आजमाया। हम उन ताकतों के खिलाफ लड़ेंगे जो देश को बांटना चाहती हैं। मैं प्यार और सम्मान के साथ आया हूं और मुझे उम्मीद है कि जल्द से जल्द राज्य का दर्जा बहाल हो जाएगा। कहा कि मैं जम्मू-कश्मीर के लिए पूर्ण राज्य का दर्जा और निष्पक्ष चुनाव की मांग करता हूं।

इसके साथ ही कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि राज्य को दो भागों में विभाजित किया गया और केंद्र शासित प्रदेश में बदल दिया गया। 16500 लोगों को जेलों में डाला गया। प्रदेश में हमें भूमि जैसे कुछ और अधिकारों की सुरक्षा की आवश्यकता है। एक विधेयक संसद में पेश किया जाना चाहिए और पारित किया जाना चाहिए।
 
अनुच्छेद 370 के निरस्त होने के बाद पहली बार श्रीनगर के दौरे पर हैं राहुल गांधी
बता दें कि अनुच्छेद 370 के निरस्त होने के बाद कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी पहली बार सोमवार को श्रीनगर के दो दिवसीय दौरे पर पहुंचे। वह रात को श्रीनगर के एक स्थानीय होटल में प्रदेशाध्यक्ष जीए मीर के बेटे के वैवाहिक कार्यक्रम में शामिल हुए। इस कार्यक्रम में नेशनस कांफ्रेंस अध्यक्ष डॉ. फारूक अब्दुल्ला और पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती भी शामिल थीं। 

श्रीनगर हवाई अड्डे पर राहुल गांधी शाम छह बजे पहुंचे, जहां प्रदेशाध्यक्ष मीर, एआईसीसी की जम्मू कश्मीर की प्रभारी रजनी पाटिल, पीरजादा मोहम्मद सैयद, सैफुद्दीन सोज, तारिक हमीद कर्रा, रमण भल्ला, योगेश साहनी, मूलाराम आदि ने उनका स्वागत किया। एयरपोर्ट के बाहर युवा कांग्रेस और एनएसयूआई के कार्यकर्ताओं ने राहुल का स्वागत किया। 

रात को प्रदेशाध्यक्ष के बेटे के वैवाहिक कार्यक्रम में राहुल शामिल हुए। इस कार्यक्रम में जम्मू कश्मीर के विभिन्न राजनीतिक दलों के प्रमुखों को आमंत्रित किया गया था। इस कार्यक्रम में राहुल पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से रूबरू हुए। कांग्रेस नेताओं ने बताया कि राहुल गांधी पार्टी भवन में नेताओं और कार्यकर्ताओं से बात करेंगे। बुधवार दोपहर को राहुल वापस दिल्ली के लिए रवाना होंगे।

गुटबाजी पर विराम लगाने का प्रयास करेंगे राहुल
जम्मू-कश्मीर में विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस में गुटबाजी पर विराम लगाने का प्रयास राहुल गांधी करेंगे। वर्तमान में प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष गुलाम अहमद मीर और कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय महासचिव एवं पूर्व मुख्यमंत्री गुलाम नबी आजाद के खेमों में कांग्रेस बंटी हुई नजर आ रही है। विधानसभा चुनाव में कांग्रेस एकजुट होकर मैदान में उतरे, इसके लिए राहुल गांधी पार्टी नेताओं को कड़ा संदेश या हिदायत दे सकते हैं।