जोश हेजलवुड के लगातार खतरनाक बाउंसर से चोटिल हुए पुजारा का हौसला बुलंद – क्रीज़ पर अभी भी जमे हुए

240

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच ब्रिसबेन में खेले जा रहे चौथे टेस्ट मैच का पांचवा दिन काफी रोमांचक हो गया है। भारतीय टीम इस मैच की चौथी पारी में 328 रनों के लक्ष्य का पीछा करने के लिए मैदान पर उतरी है। आखिरी दिन के दो सेशन समाप्त हो चुके हैं और टीम इंडिया को जीत के लिए 150 से भी कम रनों की दरकार है जबकि ऑस्ट्रेलियाई टीम को यह मैच बचाने के लिए 7 विकेट चटकाने की जरुरत है।

ऐसे में मेजबान टीम के गेंदबाजों की कोशिश है कि वह किसी भी तरह भारतीय बल्लेबाजों को पवेलियन वापस भेजें। यही कारण है कि ऑस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाजों की तिगड़ी मिचेल स्टार्क, पैट कमिंस और जोश हेजलवुड लगातार अपने खतरनाक बाउंसर से भारतीय बल्लेबाजों को परेशान कर रहे हैं।

ऐसा ही एक बाउंसर मध्यक्रम बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा को उनके अंगुठे में जाकर लगी। हेजलवुड का यह बाउंसर इतना खतरनाक था कि गेंद लगते ही पुजारा के हाथ से बल्ला छटक का गिर गया और वह दर्द से कराहने लगे। इसके फौरन बाद डॉक्टरों ने उनके चोट की जांच की और वह एक बार फिर से बल्लेबाजी के लिए तैयार हो गए।

इससे पहले भी पुजारा को एक बाउंसर उनके हेलमेट पर जाकर लगी। यह गेंद इतनी तेज थी कि हेलमेट का पिछला गार्ड टूट गया है।

गाबा के मैदा पर खेले जा रहे इस मैच में ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज कोशिश कर रहे है कि वह किसी भी तरह से भारतीय पारी को समाप्त करें। इसके लिए या तो उन्हें टीम इंडिया को ऑलआउट करना होगा। इसके अलावा खूनी बाउंसर से खिलाड़ियों को चोटिल कर पवेलियन वापस भेजने की उनकी मंशा साफ हो चुकी है।

आपको बता दें कि ब्रिसबेन गाबा के मैदान पर मेजबान ऑस्ट्रेलियाई टीम ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला लिया था। ऑस्ट्रेलिया ने अपनी पहली पारी में 369 रनों का स्कोर खड़ा किया। इसके जवाब में भारतीय टीम 336 रन ही बना पाई और वह ऑस्ट्रेलिया से 33 रन पीछे रह गई।
वहीं दूसरी में पारी में ऑस्ट्रेलिया 294 रन ही बना पाई और इस तरह भारत को 328 रनों का लक्ष्य मिला।