प्रियंका गांधी का मोदी सरकार पर वार: “युवा को भाषण नहीं नौकरी चाहिए, कब तक सरकार युवाओं के धैर्य की परीक्षा लेगी”

448

चालू वित्त वर्ष में पहली तिमाही में देश की जीडीपी में 23.9 प्रतिशत की भारी भरकम गिरावट के बाद विपक्षी दलों ने सरकार पर निशाना साधना शुरू कर दिया है. कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी ने अटकी हुए रिजल्ट और परीक्षाओं को लेकर केंद्र पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि SSC और रेलवे ने कई परीक्षाओं के परिणाम को सालों से रोक कर रखा है. प्रियंका गांधी ने कहा कि देश के युवाओं को भाषण नहीं नौकरी चाहिए.

प्रियंका गांधी वाड्रा ने कर्मचारी चयन आयोग (SSC) की सीजीएल परीक्षा के परिणाम घोषित करने और रेलवे की परीक्षा को लेकर छात्रों की मांग का समर्थन करते हुए मंगलवार को ट्वीट किया. प्रियंका ने अपने ट्वीट में लिखा, “SSC और रेलवे ने कई सारी परीक्षाओं के परिणाम सालों से रोक कर रखे हैं. किसी का रिजल्ट अटका हुआ है, किसी की परीक्षा. कब तक सरकार युवाओं के धैर्य की परीक्षा लेगी, कब तक? युवाओं की बात सुनिए सरकार. युवा को भाषण नहीं नौकरी चाहिए.”

इससे, पहले प्रियंका गांधी ने जीडीपी में गिरावट को लेकर भी सरकार को आड़े हाथ लिया. उन्होंने कहा, “आज से 6 महीने पहले राहुल गांधी ने आर्थिक सुनामी आने की बात बोली थी. कोरोना संकट के दौरान हाथी के दांत दिखाने जैसा एक पैकेज घोषित हुआ. लेकिन आज हालत देखिए. जीडीपी @ -23.9% जीडीपी. भाजपा सरकार ने अर्थव्यवस्था को डुबा दिया.