अंकिता हत्याकांड के मामले में बद्रीनाथ-ऋषिकेश हाइवे हुआ जाम, परिवार ने पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट सार्वजनिक रखने की रखी मांग

647
ankita murder badrinath highway jam
ankita murder badrinath highway jam

ऋषिकेश में हुए अंकिता हत्याकांड मामले में लोगों का आक्रोश धीरे धीरे पूरे उत्तराखंड में बढ़ता जा रहा है. ऋषिकेश, पौड़ी, देहरादून के बाद टिहरी में भी लोगों ने विरोध प्रदर्शन किया और आरोपियों को फांसी देने की मांग की. रविवार को बद्रीनाथ-ऋषिकेश हाइवे को जाम कर न्याय की मांग की है। धनौल्टी में व्यापार मंडल और स्थानीय लोगों ने कहा कि पहाड़ की बेटी के साथ जो अपराध किया गया है, उसके लिए आरोपियों को फांसी की सजा दी जानी चाहिए.

आपको बता दे 24 सितंबर को चीला शक्ति नहर से अंकिता का शव बरामद हुआ था. जिसे बाद में पोस्टमॉर्टम के लिए ऋषिकेश के AIIMS में ले जाया गया था. पोस्टमार्टम के बाद 25 सितंबर की सुबह अंकिता के घर उसका शव पहुंचा तो परिवार वालों ने अंतिम संस्कार करने से मना कर दिया. परिवार वालों ने पुलिस जांच पर सवाल उठाया. पीड़िता के पिता वीरेंद्र भंडारी ने सरकार से सवाल किया है कि पुलकित आर्य का रिजॉर्ट क्यों गिराया गया, जबकि वहां पर तो सारे सबूत थे. साथ ही सरकार से मांग की है कि अंकिता मर्डर केस को फास्ट ट्रैक कोर्ट में चलाया जाए. और आरोपियों को फांसी की सजा दी जाए. दरअसल, इस मामले के सामने आने के बाद शुक्रवार की रात को उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के आदेश पर पुलकित आर्य के वनंतारा रिजार्ट के कुछ हिस्सों को तोड़ दिया गया था.

हालांकि, अंकिता के मौसा ने कहा है कि अंकिता के शव कि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट सार्वजनिक होने के बाद ही उसके शव का अंतिम संस्कार करेंगे. उनका कहना है कि वो अंतिम संस्कार करने से मना नहीं कर रहे हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here